ये तीन खिलाड़ी खराब कर रहे ‘खेल’, सम्मान बचाने के लिये प्लेइंग इलेवन बदलना जरुरी!

0
8

तीसरा मैच जीतकर भारतीय टीम सम्मान बचाना चाहेगी, इसके लिये अपनी गलतियों को सुधारना होगा, इसके लिये प्लेइंग इलेवन बनाने की जरुरत भी है।

New Delhi, Nov 30 : ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एकदिवसीय सीरीज में टीम इंडिया से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही थी, लेकिन विराट एंड कंपनी ने शुरुआती दो मैच हारकर ही सीरीज गंवा बैठी, सिडनी में खेले गये दोनों मैचों में भारतीय टीम ने एकतरफा अंदाज से मैच गंवाया, टीम ने दोनों मैचों में तीन सौ से ज्यादा रन जरुर बनाये, लेकिन ऑस्ट्रेलियाई टीम ने पहले मैच में 374 और दूसरे मैच में 389 का स्कोर बनाकर टीम इंडिया पर हावी दिखी, अब सीरीज तो चली गई है, लेकिन तीसरा मैच जीतकर भारतीय टीम सम्मान बचाना चाहेगी, इसके लिये अपनी गलतियों को सुधारना होगा, इसके लिये प्लेइंग इलेवन बनाने की जरुरत भी है, कम से कम तीसरे वनडे के लिये तो टीम प्रबंधन को तीन बदलाव करने चाहिये, आइये आपको बताते हैं कि वो तीन बदलाव कौन-कौन से हैं।

नवदीप की जगह नटराजन को मौका
नवदीप सैनी भले ही 150 की रफ्तार से गेंदबाजी करते हैं, लेकिन उनकी तेजी का ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को फायदा हो रहा है, इतना ही नहीं सैनी पर डेथ ओवर्स में भरोसा नहीं किया जा सकता, उनकी यॉर्कर ठिकाने पर नहीं पड़ रही, saini virat ऐसे में भारतीय टीम को वनडे सीरीज के आखिरी मैच में नटराजन को गेंदबाजी देनी चाहिये, जिनकी यॉर्कर तो अच्छी है ही साथ  वो बायें हाथ के गेंदबाज हैं, जिससे टीम इंडिया की गेंदबाजी में थोड़ी विविधता भी आएगी।

चहल की जगह कुलदीप यादव को मौका
युजवेन्द्र चहल ने पहले दो मैचों में निराश किया है, ये स्पिनर दोनों ही मैचों में एक ही विकेट हासिल कर पाये हैं, उन्होने पहले मुकाबले में 10 ओवर में 89 रन लुटा दिये, Chahal तो दूसरे मैच में भी 71 रन दे बैठे, अब चहल की जगह कुलदीप यादव को मौका देने का समय है, कुलदीप ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ थोड़े महंगे जरुर रहे हैं, लेकिन वो 15 मैचों में 22 विकेट भी ले चुके हैं।

मयंक की जगह शुभमन गिल को अवसर
मयंक अग्रवाल ने वनडे सीरीज के दोनों ही मैचों में अच्छी शुरुआत की, लेकिन वो दोनों मौकों पर बेहद ही गैर-जिम्मेदाराना शॉट खेलकर आउट हुए, भारतीय टीम के पास शुभमन गिल के तौर पर एक और ओपनर है, तीसरे वनडे में इन्हें ओपनिंग की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है, गिल को पेस और बाउंसी पिचों पर खेलना रास भी आता है।