क़ानूनी इंसाफ! बांग्लादेश में रेप की सजा फांसी, कैबिनेट की मंजूरी से बिल पास

0
4

बांग्लादेश की कैबिनेट ने सोमवार को बड़ा फैसला लिया है। कैबिनेट की मंजूरी के तहत रेप के मामलों में अधिकतम सजा के तौर पर फांसी देना तय कर दिया गया है। बांग्लादेश सरकार ने पिछले दिनों हुए एक बलात्कार की घटना पर देश में मचा कोहराम और आरोपियों के खिलाफ लगातार उठ रही फांसी की मांग को देखते हुए यह बड़ा फैसला लिया है।

new-law-bangladesh-approved-maximum-punishment-rape-cases-to-hanged-on-death
Social Media

गौरतलब है कि बीते कुछ महीनों में बांग्लादेश में यौन उत्पीड़न और बलात्कार के मामले खासा सुर्खियों में रहे हैं। इसके साथ ही सोशल मीडिया से लेकर संसद तक लगातार लोग इसका लिए विरोध प्रदर्शन करते रहे हैं। ऐसे में देश में कई जगह रेप के मामले में आरोपियों को फांसी की सजा की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन हो रहा है। बता दे भारत में भी लंबे वक्त तक रेप के तमाम मामलों में फांसी की सजा की मांग की जा रही है।

new-law-bangladesh-approved-maximum-punishment-rape-cases-to-hanged-on-death
Social Media

बांग्लादेश के कैबिनेट प्रवक्ता केए इस्लाम ने बताया कि राष्ट्रपति जल्दी फांसी की सजा के लिए अध्यादेश जारी कर सकते हैं। इसके साथ ही अध्यादेश के जरिए बांग्लादेश के रेप के कानून में बदलाव कर दिया जाएगा। फिलहाल संसद सत्र नहीं चल रहा है इसलिए इस नियम के तहत फैसला लिया गया है।

new-law-bangladesh-approved-maximum-punishment-rape-cases-to-hanged-on-death
Social Media

इसके अलावा बांग्लादेश सरकार ने यह भी कहा है कि कैबिनेट ने रेप के मामलों में भी ट्रायल के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी है। फिलहाल बांग्लादेश में रेप के सिर्फ उन्हीं मामलों में फांसी की सजा हो सकती है, जिसमें पीड़िता की मौत हो गई हो।

new-law-bangladesh-approved-maximum-punishment-rape-cases-to-hanged-on-death
Social Media

वहीं इस मामले पर बांग्लादेश के स्थानीय मानवाधिकार संगठनों का कहना है कि देश में रेप के मामलों में हो रही बढ़ोतरी लगातार महिलाओं के लिए असुरक्षा का दायरा बढ़ा रही है। ऐन ओ सालिश केंद्र नाम की एक संस्था का कहना है कि जनवरी से अगस्त के बीच कुल 889 रेप के मामले सामने आए हैं और इनमें से कई मामले गैंगरेप के भी है। वही इन मामलों में अब तक 41 पीड़ितों की मौत भी हो चुकी है।

new-law-bangladesh-approved-maximum-punishment-rape-cases-to-hanged-on-death
Social Media

संस्था ने यह भी कहा है कि कई मामले तो ऐसे हैं जो दबंगों के कारण दर्ज भी नहीं हुए हैं। वहीं दूसरी और बांग्लादेश की न्याय व्यवस्था इन मामलों को निपटाने में इतना वक्त लगा देती है कि पीड़िता की न्याय की आस ही टूट जाती है। ऐसे में यह बदलाव शायद बलात्कार के मामलों में कमी ला सकते हैं।