जीत के बाद भी बढी दिल्ली कैपिटल्स की मुश्किल, आसान नहीं आगे का सफर!

0
2

श्रेयस अय्यर ने चौका तो रोक लिया, लेकिन इस दौरान उनका कंधा चोटिल हो गया, चोट की वजह से श्रेयस अय्यर मैदान से बाहर जाना पड़ा।

New Delhi, Oct 15 : आईपीएल 2020 की अंकतालिका में शीर्ष पर पहुंचने के बाद भी दिल्ली कैपिटल्स का आगे का सफर मुश्किल भरा हो सकता है, टूर्नामेंट के 30वें मुकाबले में दिल्ली के कप्तान श्रेयस अय्यर चोटिल होकर मैदान से बाहर चले गये, 14 अक्टूबर को राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मुकाबले में फील्डिंग के दौरान 5वें ओवर की आखिरी गेंद पर बेन स्टोक्स ने एनरिक नोर्त्जे की गेंद पर शॉट लगाया, इस शॉट को बाउंड्री पर पहुंचने से रोकने की कोशिश में श्रेयस अय्यर गिर पड़े।

कंधा चोटिल
श्रेयस अय्यर ने चौका तो रोक लिया, लेकिन इस दौरान उनका कंधा चोटिल हो गया, चोट की वजह से श्रेयस अय्यर मैदान से बाहर जाना पड़ा, बाहर जाते समय वह काफी दर्द में दिख रहे थे, ऐसे में अगर अय्यर की ये चोट गंभीर रही, तो दिल्ली के लिये आगे का सफर काफी मुश्किल भरा रह सकता है, बता दें कि दिल्ली की टीम इस आईपीएल की शुरुआत से ही चोट का सामना कर रही है, अब तक उसके 5 खिलाड़ी (अश्विन, अमित मिश्रा, ईशांत शर्मा, ऋषभ पंत और श्रेयस अय्यर) चोटिल हो चुके हैं, हालांकि अश्विन ठीक होकर वापसी कर चुके हैं।

शिखर धवन ने दिया अपडेट
दिल्ली की जीत के बाद शिखर धवन ने श्रेयस अय्यर की चोट को लेकर अपडेट भी दिया, अय्यर के चोटिल होने के बाद धवन ने भी टीम का नेतृत्व किया, Tushar Deshpande5 धवन ने कहा कि वह दर्द महसूस कर रहे हैं, चोट के बारे में गुरुवार को पता चलेगा, अच्छी बात ये है कि उनके कंधे में हरकत है। इस मुकाबले में दिल्ली ने 13 रन से रोमांचक जीत हासिल की, धवन ने कहा कि हमें अंदाजा था कि राजस्थान की बल्लेबाजी में गहराई नहीं है, ऐसे में हमारे पास अच्छा मौका था, हमें अपनी टीम की जीत पर भरोसा था।

अच्छी शुरुआत का फायदा नहीं
राजस्थान के कप्तान स्टीव स्मिथ ने इस हार को निराशाजनक बताते हुए कहा कि टीम अच्छी शुरुआत का फायदा नहीं उठा सकी, उन्होने कहा कि पिच अच्छी थी, लेकिन हम जोस बटलर और बेन स्टोक्स से मिली अच्छी शुरुआत का फायदा नहीं उठा सके, स्टोक्स और संजू सैमसन ने भी अच्छी पार्टनरशिप की, लेकिन हमने काफी विकेट गंवा दिये, उन्होने कहा कि ऐसी धीमी पिचों पर आखिरी में रन बनाना मुश्किल होता है, किसी बल्लेबाज को लगभग 60 रन बनाने चाहिये थे और आखिर तक खेलना चाहिये था।