किसी को भी मालूम तक नही चला और मोदी ने राजस्थान में अपना रास्ता साफ़ कर दिया

0
4




अभी हाल ही में भारतीय जनता पार्टी के नए अध्यक्ष जेपी नड्डा ने अपनी नयी टीम का गठन किया है जो कि राष्ट्रीय स्तर पर बीजेपी के लिए काम करेगी और अलग अलग राज्यों में और हर तरफ भाजपा को मजबूत करेगी. इसमें एक नाम ऐसा आया है जिसने सब लोगो को चौंका दिया है. ये नाम है राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का. ये हर किसी को हैरान कर रहा है क्योंकि अचानक से वसुंधरा राजे सिंधिया को राज्य की राजनीति से उठाकर के केंद्र की राजनीति में लाया गया है और अब वो बीजेपी उपाध्यक्ष के पद पर होगी.

वसुंधरा राजे के उपाध्यक्ष बनने के पीछे राजनीतिक विश्लेषक जो वजह मानते है वो बहुत ही बड़ी है और मोदी और शाह के लिए रास्ता साफ़ करने वाली है. दरअसल केन्द्रीय नेतृत्व एक लम्बे समय से चाह रहा है कि राजस्थान बीजेपी में नेतृत्व में बदलाव हो लेकिन वसुंधरा राजे के चलते ये संभव नही था.

वसुंधरा राजे बहुत ही ज्यादा पॉवरफुल नेता हो चुकी थी जहाँ पर एमएलए भी उनके कहने पर अधिक और केंद्र के कहने पर कम काम करते थे. जिसके चलते केंद्र की चलनी भी यहाँ कम हो गयी थी और जनता चाह रही थी कि अब राज्य में बीजेपी का नेतृत्व बदले और थोड़े नए चेहरे आये मगर वसुंधरा राजे ने एक तरह से हर रास्ते को ब्लाक कर रखा था. एक तरह से वो ही राजस्थान बीजेपी में सर्वेसर्वा थी.

मगर अब क्योंकि वो केंद्र की राजनीति में चली गयी है तो राजस्थान भाजपा में एक खाली स्पेस बन गया है और मोदी शाह के लिए ये मौका है जब वो अपने पसंद के नेतृत्व को यहाँ पर कमान देकर के अगला चुनाव लड़ सकते है और शायद नए मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार को ला सकते है जो उनके अनुसार चले. इसे एक तीर से दो निशाने जैसा माना जा रहा है.