असम में बंद हो जाएंगे सभी सरकारी मदरसे, शिक्षा मंत्री ने दिया ये बड़ा बयान

0
0

असम सरकार ने सरकारी मदरसों को बंद करने का फैसला ले लिया है और इसका ऐलान राज्य सरकार में वित्त और शिक्षा मंत्री हेमंता बिस्वा शर्मा ने किया है. उन्होंने कहा, राज्य में चल रहे सभी मदरसों को सरकारी स्कूल में बदल दिया जाएगा और इसके लिए नोटिफिकेशन नवंबर तक निकाला जाएगा.

मंत्री जी का कहना था कि सरकारी पैसों पर सबका बराबरी का हक़ होना चाहिए सिर्फ कुरान को ही नहीं पढ़ाया जा सकता है, अगर ऐसा हुआ तो बाइबिल और गीता को भी पढ़ने का मौका मिलना चाहिए. इसीलिए इस प्रक्रिया को बंद करने का फैसला लिया गया है.

हेमंत बिस्वा शर्मा बोले कि अगले आने वाले पांच साल तक इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि कोई भी किसी से जबरदस्ती शादी न कर सके. उनका कहना ये भी था कि मुस्लिम लड़के फेसबुक पर अपना नकली अकाउंट बनाकर खुद के हिन्दू होने का दावा करते है और फिर जब हिन्दू लड़की से शादी होती है तो काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. इसीलिए राज्य सरकार ने यह फैसला लिया है कि हम इस बात को लेकर भी सख्ती बरतेंगे.

बता दें कि असम में दो साल पहले राज्य सरकार ने दो नियंत्रण बोर्डों राज्य मदरसा शिक्षा बोर्ड और असम संस्कृत बोर्ड को हटा दिया था. 1957 में असम संस्कृत शिक्षा अधिनियम के तहत राज्य में संस्कृत शिक्षा आधिकारिक बनाई गई जबकि मदरसा शिक्षा प्रणाली को 1780 में शुरू किया गया.