केन्द्र सरकार खोल रही 1000 LNG स्टेशन पंप, कमाई का शानदार मौका!

0
6

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार कमाई का शानदार मौका दे रही है। देश में पेट्रोल पंप की तरह ही अब एलएनजी पंप भी लगाने की शुरुआत हो गई है। सरकार इस परियोजना पर करीब 10,000 करोड़ रुपये का निवेश कर रही है। इस बात की जानकारी पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने दी है। लिक्विफाइड नेचुरल गैस (एलएनजी) लंबी दूरी की परिवहन सेवा देने वाले वाहनों जैसे बस और ट्रक के लिए ईंधन का अच्छा विकल्प है।

आप को बता दें कि एक बार एलएनजी टैंक भराने के बाद ऐसे वाहन आराम से 600 किलोमीटर से लेकर 800 किलोमीटर तक जा सकते हैं। वहीं इसकी सबसे बड़ी खासियत इसका डीजल की तुलना में 30 फीसदी से लेकर 40 फीसदी तक सस्ता होना भी है। अभी देश में वाहन ईंधन के रूप में पेट्र्रोल, डीजल, सीएनजी के अलावा ऑटो एलपीजी का उपयोग हो रहा है। ऐसे में यह पेट्रोल पंप जैसे कारोबार का भी मौका देगा।

देश में शुरुआती 50 एलएनजी स्टेशंस के निर्माण शुरू हो गया है। वहीं प्लानिंग है कि आगामी 3 साल में निजी और सरकारी क्षेत्र में 1,000 एलएनजी स्टेशंस खोले जाएंगे, जिन पर करीब 10,000 करोड़ रुपये की लागत आएगी। ऐसे में एलएनजी पंप खोलने का मौका लोगों के पास है। इच्छुक लोगों को पेट्रोलियम मंत्रालय के अलावा पेट्रोनेट और अन्य पेट्रोलियम कंपनियों की बेवसाइट से ज्यादा जानकारी लेना चाहिए।

20 एलएनजी स्टेशंस इंडियन ऑयल लगा रही
पहले 50 में से 20 एलएनजी स्टेशंस इंडियन ऑयल कार्पोरेशन (आईओसी) लगा रही है। वहीं हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) 11, भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड 11 और गेल 6 एलएनजी स्टेशन बना रही है। बाकी 2 एलएनजी पंप पेट्रोनेट एलएनजी स्थापित कर रही है। भारत में ईंधन के रूप में एलएनजी का पहली बार ट्रायल इंडियन ऑयल और टाटा मोटर्स ने 2015 में किया था। इसके बाद 2016 में पहली बार एलएनजी से चलने वाली बस लांच की गई थी। इसके बाद से ही एलएनजी का उपयोग का वाणिज्यिक तौर पर हो रहा है।

पेट्रोनेट एलएनजी कंपनी पूरे देश में एलएनजी स्टेशन स्थापित करना चाहती है। इसमें देश के प्रमुख राजमार्ग के किनारे एलएनजी स्टेशन स्थापित किए जाएंगे। यदि इस प्रोजेक्ट में कोई ऑयल मार्केटिंग कंपनीज (ओएमसी), सीजीडी एंटिटीज या अन्य पार्टी भागीदार बनने की इच्छुक है, तो वे आवेदन कर सकते हैं। नीचे दिए लिंक को क्लिक कर सकते हैं-