पासवान की खाली हुई सीट पर पत्नी को राज्यसभा भेजने की चर्चा, लेकिन बड़े खेल की तैयारी में बीजेपी

0
4

राम विलास पासवान के निधन के बाद बिहार से राज्‍यसभा की एक सीट पर उपचुनाव होने हैं, लेकिन उम्‍मीदवार कौन होगा ये एक बड़ा सवाल है ।

New Delhi, Nov 24: बिहार से दिग्गज नेता एलजेपी के रामविलास पासवान के निधन के बाद राज्यसभा की उनकी सीट खाली हो गई है, अब इस पर उपचुनाव होना है । लेकिन सीट पर उम्‍मीदवार कौन होगा, ये सवाल बना हुआ है । एलजेपी एनडीए से अलग-थलग होकर विधानसभा चुनाव में उतरी थी, ऐसे में उम्‍मीदवार एलजेपी का हो इसे लेकर संशय है । वहीं राजनीति के जानकार मान रहे हैं कि यह बीजेपी और जेडीयू के रिश्तों को और ज्यादा मजबूत करने का एक सुनहरा मौका हो सकता है।

चिराग की मां का नाम चर्चा में
हालांकि इस राज्‍यसभा सीट के लिए चिराग की मां रीना पासवान का नाम भी सामने आ रहा है । लेकिन जब तक बीजेपी इसके लिए तैयार नहीं होगी, तब तक उसे मैदान में उतारा नहीं जा सकता है । बहुत संभव है कि बीजेपी राज्यसभा की इस सीट के लिए अपना ही कोई उम्मीदवार उतार दे । आपको बात दें 243 सदस्यों वाली बिहार विधानसभा में राज्यसभा के लिए 122 विधायकों का समर्थन चाहिए होगा। एनडीए के पास इस समय 125 विधायक हैं जबकि एलजेपी केवल एक ही सीट जीत पाई थी। चुनाव आयोग की ओर से जानकारी दी गई है कि राज्‍यसभा की इस सीट के लिए उपचुनाव 14 दिसंबर को करवाए जाएँगे। उपचुनाव के लिए 26 नवंबर को नोटिफिकेशन जारी होगा और नामांकन की आखिरी तारीख 3 दिसंबर होगी।

एलजेपी को ओर से दी गई ये जानकारी
इंडियन एक्सप्रेस के हवाले से दी जा रही खबर के मुताबिक एलजेपी की ओर से कहा गया है कि जब तक बीजेपी हां नहीं करती है, अपना कैंडिडेट नहीं chirag paswanउतारा जा सकता है। सूत्रों की ओर से ये भी कहा जा रहा है कि जेडीयू, एलजेपी के उम्मीदवार का समर्थन करे ये नामुमकिन ही है । ऐसे में चिराग अपना कोई उम्मीदवार उतारें ऐसा नहीं हो सकेगा । वहीं, बीजेपी के पास एलजेपी से बनी दूरी को कम करने का मौका है लेकिन वह ऐसा कोई काम नहीं करेगी जिससे जेडीयू नाराज हो जाए ।

बीजेपी से ये नाम आए सामने
वहीं बीजेपी की तरफ से इस सीट के लिए जो नाम सामने आए हैं उनमें शहनवाज हुसैन, सुशील मोदी, रितुराज सिन्हा का नाम है। हालांकि पार्टी की ओर से अभी कुछ भी नहीं कहा गया है । आपको बता दें एलजेपी केंद्र में अब भी एनडीए के साथ है। राजनीति गलियारों में सुगबुगाहट है कि आरजेडी एलजेपी के राज्‍यसभा कैंडिडेट को सपोर्ट करने की कोशिश कर सकती है । हालांकि चिराग ऐसा कर मोदी के साथ अपनी इक्‍वेशन आगे के लिए नहीं बिगाड़ना चाहेंगे ।