बीवी ने पति को कहा नपुंसक तो पति ने कोर्ट में फाइल कर दिया तलाक, जज ने कही ऐसी बात

0
18




पति और पत्नी के बीच रिश्ता आपसे भरोसे और सम्मान पर टिका होता है और अगर एक बार के लिए ये समाप्त हो जाता है तो फिर ये रिश्ता आगे चल पाना लगभग न के बराबर ही संभावित नजर आता है और ऐसा ही कुछ अभी हाल ही में एक केस में नजर आया है. ये पूरा मामला राजधानी दिल्ली का है जहाँ पर एक कपल की शादी सन 2012 में हुई थी और यहाँ पर कपल की शादी के बाद में कुछ दिन बाद पत्नी अपने घर वापिस चली गयी और पति पर आरोप लगाया कि उसका पति सम्बन्ध नही बना सकता है.

उसने अपने पति के लिए नपुंसक जैसे शब्दों का प्रयोग भी किया जिसके बाद में पति ने अदालत में तलाक के लिए फाइल कर दिया और आरोप लगाया कि महिला मानसिक रूप से स्थिर नही है और इस तरह के आरोप लगाकर के वो उसकी मानसिक स्थिति को भी प्रभावित कर रही है.

निचली अदालत ने तलाक को मंजूरी दे दी तो महिला हाई कोर्ट में चली गयी जहाँ पर महिला ने कहा कि पति के नपुंसक होने की वजह से ये शादी नही चल पा रही थी. अब ऐसे में हाई कोर्ट ने भी पुरुष की बात समझी और महिला से साफ़ शब्दों में कहा कि आप ये जो आरोप लगा रही है वो एक तरह से क्रूरता के सामान है जिसके कारण पुरुष की मानसिक स्थिति और जिन्दगी पर बुरा असर पड़ रहा है, इसी के साथ में तलाक रोकने की अपील को हाई कोर्ट ने खारीच कर दिया.

भारत में ये दिक्कत बड़ी देखने में आती है कि लोग सामने वाले पर आरोप भी लगाते रहते है और उसके साथ में चिंगम की तरह चिपके भी रहना चाहते है और ऐसे में कोर्ट को इन जोंक की तरह चिपके और दुसरे की जिन्दगी को खराब कर रहे लोगो को उखाड़ने में काफी मेहनत लग जाती है.