किसके पोस्ट मार्टम के दौरान रो पड़े विधायक प्रमोद विज

0
8

पानीपत के छह बार के पार्षद रह चुके हरीश शर्मा के पोस्टमार्टम के दौरान वहां मौजूद लोगों की आंखे भर आईं। पानीपत के विधायक प्रमोद विज तो रोते हुए बेंच पर निढाल हो गए। लोगों का आरोप था कि प्रशासन के उत्पीड़न और पार्टी की अंदरूनी राजनीति ने 25 साल से समाजसेवा कर रहे नेता को छीन लिया। बता दें कि मृतक पूर्व पार्षद के भाई ने पुलिस अधिकारियों पर कई गंभीर आरोप लगाए। वहीं विधायक और पूर्व पार्षद की पुत्री ने गृहमंत्री अनिल विज से भी बातचीत की।

पूर्व पार्षद का शव दोपहर ढाई बजे पोस्टमार्टम के लिए लाया गया। उनके साथ बड़ी संख्या में पानीपत के समाजसेवी व व्यापारी नेता भी नागरिक अस्पताल पहुंच गए। पानीपत के विधायक प्रमोद विज ने अपनी मौजूदगी में कागज तैयार कराए। उसके बाद जैसे ही पोस्टमार्टम शुरू हुआ, वहां मौजूद लोगों की आंखें नम हो गईं। विधायक तो रोते हुए निढाल होकर बेंच पर बैठ गए। लोगों ने पूर्व पार्षद को जनता के हित में लड़ने वाला जुझारू भाजपाई बताया। उनके भाई सतीश शर्मा ने बताया कि वह हमेशा लोगों के लिए लड़ते रहे। इसके चलते उनके खिलाफ 12 बार रिपोर्ट दर्ज कराई गई। ज्यादातर में वह बरी हो गए। कई लोग पार्टी के अंदर भी राजनीति कर रहे थे। वह प्रशासन ने मिलकर हरीश शर्मा का उत्पीड़न करा रहे थे। इसके चलते ही उनकी जान गई। प्रशासन है मौत का जिम्मेदार :

बता दें कि मृतक पूर्व पार्षद के भाई सतीश शर्मा ने आरोप लगाया कि पानीपत की एसपी, तहसील कैंप चौकी के इंचार्ज और एएसआइ ही इस मौत के लिए जिम्मेदार हैं। वे लगातार पीछे पड़े हुए थे। शहर में हो रहे अवैध कार्यों का विरोध करने को लेकर प्रशासन उनका विरोध करता था। उन्होंने तीनों अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग शासन से की है। उन्होंने कहा कि जब तक निष्पक्ष जांच नहीं हो जाती है, तब तक वह चैन से नहीं बैठेंगे। अंतिम संस्कार के बाद सोमवार को एक प्रतिनिधिमंडल गृहमंत्री अनिल विज से भी मुलाकात करेगा।

एसआइटी करेगी मामला का जाँच

आपको बता दें कि पानीपत के विधायक प्रमोद विज ने बताया कि स्वजन पुलिस अधिकारियों सहित कई अन्य पर गंभीर आरोप लगा रहे हैं। इसकी जांच के लिए पहले ही शासन स्तर से एसआइटी का गठन किया जा चुका है। अब एसआइटी की रिपोर्ट के बाद ही असलियत सामने आ सकेगी। जो भी दोषी मिलेगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि हरीश शर्मा के रूप में पानीपत के लोगों के हित में लड़ने वाला जुझारू कार्यकर्ता पार्टी ने खो दिया है।