हैदराबाद में बारिश के बाद उमड़े सैलाब ने मचाई तबाही, 15 की मौत कई घायल, देखे ताजा तस्वीरें

0
0

तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद बीते 24 घंटे से बारिश के पानी से त्राहिमाम कर रही है। 24 घंटे से शुरू हुआ बारिश का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। ऐसे में हैदराबाद शहर पूरी तरह से जलमग्न हो गया है। सड़कों पर गाड़ियां तैर रही है और आलम यह है कि लोगों को बाहर जाने के लिए नाव का सहारा लेना पड़ रहा है। तेज बारिश के चलते जनजीवन पूरी तरह से प्रभावित हो गया है। वहीं मौसम विभाग का भी इस मामले में यह कहना है कि आने वाले 2 दिनों तक बारिश नहीं रुकेगी। ऐसे में परेशानी और बढ़ सकती है।

Social Media

वहीं इस मामले पर मौसम विभाग द्वारा जारी आंकड़ों की माने तो मंगलवार सुबह 8:30 से रात 9:00 बजे तक मलकानगिरी जिले से सिंगापुर टाउनशिप में सिंगापुर टाउनशिप में 292.5 मिमी तक बारिश हुई और यदाद्री-भोंगीर जिले के वर्केल पाल्ले में 250.8 मिमी बारिश दर्ज की गई है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया है कि ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम के कई इलाकों में बारिश का कहर अभी भी जारी है।

Social Media

वही प्रकृति के इस त्राहिमाम की मार झेल रहे लोगों के बचाव के लिए पुलिस दल, एनडीआरएफ और जीएचएमसी के आपदा कार्रवाई दल के कर्मी सभी स्थानों पर पहुंच गए हैं और लोगों को बचाने का काम जारी है। यह सभी बचाव दल उन सभी जगह मौजूद हैं, जहां पानी काफी ज्यादा भर गया है। पुलिस ने बताया कि यहां जलभराव के कारण एक सरकारी बस पलट गई है, जि समें से 33 यात्रियों को अब तक निकाला जा चुका है।

Social Media

हैदराबाद के ज्यादातर इलाकों में बारिश का कहर अब भी जारी है। वहीं इस मामले पर मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि तेलंगाना, हैदराबाद समेत कुछ स्थानों पर बुधवार और गुरुवार को बारिश का कहर जारी रह सकता है। बता दे अब तक भारी बारिश के कहर से तेलंगाना से लेकर हैदराबाद तकरीबन 15 लोगों की मौत हो चुकी है। मरने वाले लोगों में एक घटना चंद्रयान घटा क्षेत्र की है. जहां एक बच्चे समेत 10 लोगों की मौत हुई है।

Social Media

पुलिस ने बताया कि दूसरी घटना इब्राहिमपटनम इलाके की है, जहां पुराने मकान की छत गिरने से 40 वर्षीय महिला और उसकी बेटी की मौत हो गई है। फिलहाल जहां एक और बारिश का कहर जारी है तो वहीं दूसरी और बचाव दल भी पूरी जुगत के साथ लोगों की मदद करने में जुटा हुआ है। ऐसे में लोगों से इस मुश्किल घड़ी में शांति बनाए रखने की अपील की जा रही है।