लद्दाख में भारी बर्फबारी से चीनी सैनिक होने लगे बेहोश, फील्ड अस्पताल पहुंचा रहे भारतीय जवान

0
2




भारत और चीन के मध्य बने तनाव कम होने का कोई आसार नहीं दिख रहा है.वार्ताओं में जहा चीन शांति की बात करता है वही दूसरी ओर नियंत्रण रेखा पर चीन अपनी नापाक इरादे जाहिर कर देता है.इस तनाव से नियंत्रण रेखा पर भारतीय और चीनी जवानों की भारी तैनाती है.अभी हाल में लद्दाख में पहली बर्फबारी देखने को मिली.ये इस साल की पहली बर्फबारी है.नियंत्रण रेखा पर तैनात जवानों के लिए एक आपदा से कम नहीं है.इस बर्फबारी से पेंगोग झील के उतरी एरिया में 16 हजार फीट पर तैनात चीन की एक टुकड़ी पर असर दिख रहा है.इससे चीनी सैनिक बीमार होने लगे है.लद्दाख में तापमान माइनस 4 डिग्री पहुंच चुका है.चीन के सैनिक ज्यादातर बीमार होकर फिंगर6 फिल्ड अस्पताल जा चुके है.चीन के ये सैनिक टुकड़ी भारतीय सैनिकों से महज एक km दूर है.भारत और चीन के बीच गतिरोध से भारत ने चीन को आर्थिक रूप से कमज़ोर करने की पहल की है.दोनो देशों के सैन्य वार्ता हुई जिसमे टॉप सीक्रेट रोड मैप पर गतिरोध खत्म करना चाहते है. एक रिपोर्ट के अनुसार चीन हाल की लाइन ऑफ़ कंट्रोल से 30 km पीछे जाने को तैयार है.

भारत द्वारा किए गए वार्ता में कहा गया भौतिक रूप से जांच पड़ताल करने के बाद वह भी 15 km पीछे जाएगा.ये वार्ता अभी सैन्य अधिकारी के बिच हुई है.दोनो देशों के बीच राजनीतिक बैठक के बाद ही अंतिम निर्णय लिया जाएगा.वार्ताओं के समाप्ति से पहले ही चीनी सैनिक सर्दी के सामने कमज़ोर दिख रहे है.भारतीय सैनिक उनकी हर गतिविधियों पर नजर लगाए हुए है.दो दिन से हो रही बर्फबारी से बढ़ी ठंड से पहले ही भारतीय सैनिक को लिए उच्च स्तरीय इलाज की व्यवस्था कर दी है.आपको बता दे भारतीय सैनिक को सियाचीन के 22 हजार फीट और हिमालय के 29 हजार फीट की ऊंचाई पर तैनाती का अनुभव हासिल है.भारतीय सैनिको ने अपने शॉर्य का प्रदर्शन करते हुए कारगिल युद्ध में पाकिस्तान को परास्त किया था.अब भारत के जवानों के लिए 16 हजार केएम वाली ठंड क्या मायने रखती है.

इस खून जमाने वाली ठंड में भी भारतीय सैनिक देश की रक्षा करने के लिए खड़े है.लद्दाख में 6 महीने तक सभी इलाके ठंड से ढके रहते है.झील के किनारे भी जमने लग गए है वहीं ठंडी हवा से तापमान ओर नीचे गिरता है.ऊंचाई पर होने के कारण चीनी सैनिकों को ऑक्सीजन लेने में समस्या उत्पन्न हो रही है.इससे बहोश हो रहे है.इस ठंड ने चीनी सैनिकों के हौसले पस्त कर दिए है वहीं भारतीय जवान अपने देशभक्ति के जुनून से खड़े है.जब चीनी सैनिक बहोश हो रहे थे तब भारतीय सैनिक ने अपने मानवीय संवेदना का परिचय देते हुए उन्हें फिल्ड अस्पताल पहुंचाया. भारतीय आर्मी के इस काम को सभी देशवासी सैल्यूट करते हे.जय हिन्द.

SORCE