कांग्रेस के अन्दर की लड़ाई बाहर आयी, मल्लिकार्जुन खडगे के बयान ने बढ़ा दी टेंशन

0
3




अभी कांग्रेस पार्टी जिस दौर से गुजर रही है उसके कारण स्थिति काफी बुरी हो रखी है. एक के बाद एक चुनाव हारते ही चले जा रहे है और हाल कुछ ऐसा है कि संगठन भी कमजोर हो चुका है जिसके बाद में अब पार्टी ने तय कर ही लिया है कि वो आपस में ही भिड़ेंगे. सिब्बल और चिदम्बरम जहाँ नेतृत्व पर सवाल खड़े कर रहे है वही खुर्शीद बेवजह सवाल करने वालों को पार्टी छोड़ देने के लिए कह रहे है. गांधी परिवार अभी इतने दबाव में है कि उनके खास खड्गे को आना पड़ा है.

अभी गान्धी परिवार के करीबी मल्लिकार्जुन खड्गे सामने आये और उन्होंने कहा कि जिस तरह से कांग्रेस के ही वरिष्ठ नेता आपस में और पार्टी के ऊपर ये आरोप लगा रहे है उससे मैं बहुत ही अधिक आहत हुआ हूँ, अपने ही लोग अपनी पार्टी को तबाह कर रहे है.

आगे खड्गे कहते है कि एक तरफ जहाँ हमारे सामने भारतीय जनता पार्टी और आरएसएस का सामना करने की चुनौती है वही दूसरी तरफ हमारे सामने अन्दर की कलह है. अगर हम अपनी विचारधारा को छोड़ देंगे और आपस में लड़ेंगे तो ऐसे ही खत्म हो जायेंगे और कभी जीत नही सकेंगे. ये बयान खड्गे ने तब दिया है जब गांधी परिवार बहुत ही अधिक भारी दबाव से गुजर रहा है और कही न कही स्थिति बहुत ही संवेदना से भरी हुई है.

ऐसे में स्थिति कब हाथ से बाहर चली जाए और कांग्रेस पार्टी में विरोध करने वालो का जमावड़ा बढ़ने लग जाए कुछ कहा नही जा सकता है. खैर बाकी तो जो भी है चीजे सामने नजर आ ही रही है और अब वो वक्त है जिसमे लोगो को समझना होगा कि कांग्रेस के हाई कमान में भी अब फूट पड़ने लगी है जिसे एक सख्त नेतृत्व ही सम्भाल सकता है.