महिला हवलदार ने ढूंढ़ निकाले 76 लापता बच्चे, कमिश्नर ने किया सैल्‍यूट, तुरंत प्रमोशन

0
4

दिल्‍ली पुलिस की एक महिला हवलदार को उनकी ड्यूटी अच्‍छे से निभाने का बड़ा ईनाम मिला है, ऐसा ईनाम पहले कभी किसी को नहीं मिला ।

New Delhi, Nov 20: दिल्‍ली पुलिस की एक महिला पुलिसकर्मी सभी के लिए मिसाल बन गई हैं । दिल्ली पुलिस की हेड कॉन्स्टेबल सीमा ढाका, महज 3 महीनों के अंदर ही वक्त से पहले प्रमोशन पाने वाली पहली महिला पुलिसकर्मी बन गई हैं । लेकिन उन्‍होंने ऐसा क्‍या किया, हम आपको बताते हैं । सीमा ढाका को ये आउट ऑफ टर्न प्रमोशन 76 गुमशुदा बच्‍चों को ढूंढ़ निकालने के कारण मिला है । इन बच्‍चों में 56 की उम्र 14 साल से भी कम है । देश भर से लापता हुए ये बच्‍चे अब सीमा ढाका जैसी पुलिस कर्मी की वजह से बेहतर जीवन जी पाएंगे ।

दिल्‍ली पुलिस ने जारी किया बयान
सीमा ढाका को प्रमोशन देते हुए, दिल्‍ली पुलिस ने खुशी जाहिर की । एक बयान जारी कर इसकी सूचना भी दी गई । इस प्रेस रिलीज में बताया गया कि सीमा ढाका को 76 गुमशुदा बच्चों को ढूंढ निकालने के लिए यह आउट-ऑफ टर्न प्रमोशन मिला है। सीमा ढाका ने 76 गुमशुदा बच्चों को ढूंढा था, जिसमें से 56 की उम्र 14 साल से कम है। ये बच्चे सिर्फ दिल्ली के नहीं बल्कि पंजाब और पश्चिम बंगाल जैसे दूसरे राज्यों से भी हैं। सीमा के इस काम की सराहना की जा रही है ।

कमिश्‍नर ने किया ट्वीट
दिल्ली पुलिस कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव ने बकायदा ट्विटर पर ट्वीट करते हुए कहा कि ‘महिला हेड कॉन्स्टेबल सीमा ढाका नए इंसेंटिव स्कीम के तहत तीन महीनों में ही 56 गुमशुदा बच्चों को बचाने पर आउट-ऑफ टर्न प्रमोशन पाने वाली पहली पुलिसकर्मी बनने के लिए बधाई की पात्र हैं । उनके जज्बे और इन परिवारों की खुशी लौटाने के लिए उनको सलाम।’

पहली पुलिसकर्मी जिन्‍हें इस तरह प्रमोशन मिला
आपको बता दें सीमा ढाका दिल्ली पुलिस की पहली ऐसी पुलिसकर्मी बनी है, जिन्हें गुमशुदा बच्चों को ढूंढने पर आउट ऑफ टर्न प्रमोशन दिया गया है। हवलदार से सीधे एएसआई बनी सीमा की उनके डिपार्टमेंट में जमकर तारीफ हो रही है । सीमा, इस समय आउटर नार्थ डिस्ट्रिक के समयपुर बादली थाने में तैनात है। उन्‍हों ढाई महीने के अंदर ही बच्चों को ढूंढने के लिए मिले टारगेट को पूरा कर लिया । सीमा ने सिर्फ दिल्‍ली ही नहीं, पंजाब और पश्चिम बंगाल से लापता बच्चों को ट्रेस करने में भी सफलता पाई है ।