होटल मे करता था वेटर का काम,आज बना आईएएस अधिकारी .

0
2




अगर कोई भी वयक्ति किसी भी कार्य को करने की ठानले और हौसले बुलंद हो तो कोई भी कार्य मुश्किल नहीं होता और इंसान सभी कुछ छोड़ कर अपने सपनो को पूरा करने के लिए आगे बरता जाता है ,और जब वो हिम्मत से हौसले के साथ आगे बरता है और उसको फिर सफलता मिलकर ही रहती है .ऐसे ही हम एक वयक्ति की बारे मे बताने जा रहे है ,इस वयक्ति की सफलता को देखकर लोग हैरत मे पर जाते है .ये वयक्ति महाराष्ट्र के जालना जैसे छोटे से गाऊ मे रहने वाला है जिनका नाम अंसार अहमद शैख़ है .

इस वयक्ति ने पहले प्रयास मे UPSC की परीक्षा पास की अंसार ने सिर्फ २१ साल की उमर मे देश की सबसे प्रतिष्ठम परीक्षा मे शुमार UPSC की परीक्षा मे ३७१ वी रैंक हासिल की है .

घर के हालातो से था मजबूर ,तो बीच मे छोड़नी पारी पढ़ाई ..

बचपन मे अंसार ने बहुत बुरा वक़्त का सामना किया है ,अंसार को बचपन मे एक वक़्त की रोटी भी बहुत मुश्किल से मिलती थी .काफी बार ऐसा होता था दिन मे एक ही वक़्त खाना खाने को मिलता था और ऐसे ही एक ही वक़्त का खाना खाकर गुज़ारा करने को मजबूर थे .ऐसे हालात मे अंसार के अब्बा उनकी पढ़ाई छुड़वाना चाहते थे और उनके अब्बा चाहते थे अंसार पढ़ाई छोड़कर घर खर्च के लिए सहयोग करे .

सूत्रों के मुताबिक़ अंसार के अब्बा एक ऑटो रिख्शा चालक थे और अंसार की माँ खेतो मे काम करती थी.अंसार के अब्बा हर रोज़ १०० से १५० रूपए कमाते थे .अंसार के परिवार मे माता ,पिता और दो बहने दो भाई थे ,इतने पैसो मे परिवार का भरण पोषण करना और पढ़ाई करना मुश्किल था .

अंसार बताते है घर की इस्तिथि ख़राब होने के कारण अब्बा और रिश्तेदारों ने मुझसे पढ़ाई छोड़ने को कहा ये कहने वो लोग मेरे विधालय भी चले गए ,लेकिन मेरे अध्यापक ने मेरे अब्बू को समझाया अंसार पढ़ाई मे बहुत अच्छा विध्यार्थी है और इसकी पढ़ाई नहीं छुड़वाए इस तरह अंसार ने धीरे धीरे १० वी की परीक्षा पास की .

होटल मे था वेटर ..

अंसार शैख़ ने १२ वी की पढ़ाई पूरी करने के बाद UPSC की पढ़ाई करने के लिए पैसे जुटाना शुरू करदिये ,इसके बाद होटल मे वेटर का काम किया ,यहाँ लोगो को पानी पिलाने से लेकर फर्श पर पौछा तक लगाया .आखिरकार अंसार आईएएस अधिकारी बनगए और उनकी मेहनत रंग लाई .अंसार शैख़ ने २०१५ मे UPSC की परीक्षा पास कर्ली थी .और देश मे ३७१ वी रैंक आई थी .इस समय अंसार पश्चिम बंगाल सरकार मे OSD अधिकारी के रूप मे कार्यरत है .