इन गलतियों की वजह से डूबते चले गये ‘रिटेल किंग’ किशोर बियानी, रिलायंस ने खरीदा बिजनेस!

0
21

रिटेल लीडरशिप समिट में बोलते हुए किशोर बियानी ने कहा था कि हमने कई गलतियां की, हमने कारोबार को कई कैटिगरीज में विस्तार दे दिया।

New Delhi, Nov 19 : कभी देश के रिटेल किंग कहलाने वाले फ्यूचर ग्रुप के मुखिया किशोर बियानी इन दिनों संघर्ष के दौर से गुजर रहे हैं, पिछले दिनों अपने रिटेल बिजनेस को रिलायंस इंडस्ट्रीज के हाथों 24713 करोड़ रुपये में बेचने वाले किशोर अब इस डील को लेकर अमेजॉन के साथ मुकदमे का सामना कर रहे हैं, बिग बाजार, फैशन एट बिग बाजार जैसे दिग्गज ब्रांड्स को खड़ा करने वाले किशोर बियानी को हमेशा प्रयोग करने वाले कारोबारी को तौर पर जाना जाता था, हालांकि उनके कुछ प्रयोग फेल हो गये, जिसकी वजह से उन्हें असफलता देखनी पड़ी।

कहां हुई गलती
खुद किशोर बियानी ने ही माना था कि कारोबार को अलग-अलग कैटिगरीज में विस्तार देने की वजह से उनके साथ ये स्थिति पैदा हुई, इस साल की शुरुआत में ही किशोर बियानी ने कहा था कि कई कैटिगरीज में विस्तार करने और उनमें कम सफलता हासिल करने की वजह से ये स्थिति पैदा हुई थी, बियानी ने कहा कि ये गलती थी, और हमें फूड, फैशन और होम फर्निशिंग तक ही सीमित रहना चाहिये था।

हमने कई गलतियां की
रिटेल लीडरशिप समिट में बोलते हुए किशोर बियानी ने कहा था कि हमने कई गलतियां की, हमने कारोबार को कई कैटिगरीज में विस्तार दे दिया,  अब मैंने फैसला लिया है कि हम फूड, फैशन और होम से बाहर नहीं जाएंगे, इससे पहले हमने कई स्तर पर बिजनेस किया और मैं सोचता हूं, कि हमने बहुत सी गलतियां की, हमारे पास उतने संसाधन नहीं है कि हम इस तरह से बिजनेस का विस्तार कर सकें।

ऑफलाइन बिजनेस
इतना ही नहीं ऑनलाइन के इस दौर में भी लंबे समय तक ऑफलाइन रिटेल कारोबार को ही विस्तार देने को भी किशोर ने अपनी गलती माना, तमाम विशेषज्ञ भी यही मानते हैं कि भविष्य अब ऑनलाइन रिटेल में हैं, यहां तक की दुनिया की दिग्गज रिटेल कंपनी वॉलमार्ट ने भी भारत में फ्लिपकार्ट के जरिये ऑनलाइन रिटेल कारोबार में निवेश किया है, किशोर बियानी ने ऑनलाइन बिजनेस के अवसर को मिस करने को लेकर कहा था कि हमने इंटरनेट कॉमर्स के अवसर को मिस किया। आपको बता दें कि रिलायंस को अपना रिटेल बिजनेस बेचने को लेकर पिछले दिनों किशोर बियानी ने कहा था कि पहले से ही आर्थिक संकट से जूझ रहे बिजनेस को लॉकडाउन की वजह से करारी चोट पहुंची थी, उन्होने कहा था कि भले ही बिजनेस ठप्प हो जाए, लेकिन कर्ज पर ब्याज और प्रॉपर्टी का किराया जारी रहता है, उन्होने कहा कि इस संकट के चलते ही रिटेल बिजनेस को बेचना ही उनका पास एक मात्र विकल्प था।