Chhath 2020: हथेली की ये है 6 रेखाएं को जो बना देते हैं धनवान, जानिए

0
4

नई दिल्ली: देश में दीपावली के बाद में 4 दिवसीय महापर्व छठ (chhath 2020) मनाया जा रहा है। आज नहाय खाय की परंपरा के साथ छठ का महापर्व शुरू हो चुका है। यह संतान की सुख समृद्धि की कामना के साथ ही धन संपत्ति में वृद्धि प्राप्‍त करने का त्‍योहार है। छठी माई के आशीर्वाद से हमारे चीज में कभी किसी चीज की कमी न हो और हम संतोष के साथ अपनी जीवन व्‍यतीत कर सकें। ऐसी कामना के साथ हम हर साल यह महापर्व मनाते हैं। इस अवसर पर आज हम आपको बताते हैं आपके हाथ ही वह 6 रेखाएं जो धन प्राप्ति का संकेत देती हैं।

  • अगर आपकी हथेली में मस्तिष्‍क रेखा, जीवन रेखा और भाग्‍य रेखा तीनों मिलकर अंग्रेजी के अक्षर M जैसी आकृति बनाएं तो ऐसा माना जाता है कि आपको विवाह के बाद बहुत सारा धन प्राप्‍त हो सकता है। ऐसे लोग 30 से 55 वर्ष की आयु में अपने जीवन का अधिकांश धन अर्जित करते हैं। नौकरी हो या फिर व्‍यापार इन्‍हें सबमें सफलता मिलती है।
  • अगर आपके हाथ में मध्‍यमा उंगली यानी शनि पर्वत और छोटी उंगली यानी कि बुध पर्वत के पास एक रिंग जैसी आकृति हो और एक रेखा से यह जुड़ें तो इसे लक्ष्‍मी योग कहते हैं। ऐसे व्‍यक्ति हर प्रकार की कला में निपुण होते हैं और जिंदगी भर खूब पैसा कमाते हैं। इनका व्‍यक्तित्‍व भी बहुत आकर्षक होता है और ये अपने जीवन में हर प्रकार का सुख भोगते हैं।
  • यदि तर्जनी उंगली यानी कि गुरु पर्वत के पास कोई रेखा अंगूठे के पास से निकलकर पहुंच रही हो तो ऐसे जातक बहुत ही धनवान होते हैं और इन्‍हें बहुत मामूली से प्रयास में ही सफलता मिल जाती है।
  • यदि किसी व्‍यक्ति की हथेली में मस्तिष्‍क रेखा, जीवन रेखा और हृदय रेखा तीनों मिलकर त्रिकोण का निर्माण करें तो यह बहुत ही शुभ संयोग माना जाता है। ऐसी स्थिति में धन का आगमन कई दिशाओं से होता है। अर्थात ऐसे लोगों के पास धन प्राप्‍त करने के कई रास्‍ते होते हैं और आपको हर मार्ग से सफलता प्राप्‍त होती है।
  • अगर किसी के हाथ में तराजु का निशान हो तो ऐसे लोगों को बहुत ही खुशनसीब माना जाता है। ऐसे व्‍यक्तियों को अपने जीवन में रुपये-पैसे से संबंधित कोई कमी नहीं रहती।
  • अगर आपकी हथेली में कोई रेखा मणिबंध से निकलकर शनि पर्वत तक पहुंचे या फिर कोई रेखा चंद्र पर्वत से शुरू होकर सूर्य पर्वत यानी अनामिका उंगली तक आए तो हाथ में यह रेखाएं मिलकर महालक्ष्‍मी योग बनाती हैं। ऐसी रेखाएं बहुत ही दुर्लभ मानी जाती हैं। ऐसी रेखाएं बहुत ही शुभ फल देती हैं।