जानिये, चुनाव हारने के बाद भी क्यों ढाई महीने तक पद पर बने रहते हैं अमेरिकी राष्ट्रपति?

0
14

हाल ही में हुए अमेरिकी राष्ट्रपति के चुनाव में जो बाइडन ने डोनाल्ड ट्रंप को करारी हार दी है। ऐसे में अब जो बाइडन अमेरिका के नए राष्ट्रपति बन गए हैं। वही डोनाल्ड ट्रंप की अब व्हाइट हाउस से विदाई हो गई है। ऐसे में एक बात अमेरिकी चुनाव को लेकर बेहद दिलचस्प है कि अमेरिका में चुनाव हार जाने के बाद भी पूर्व राष्ट्रपति का कार्यकाल आगामी ढाई महीने तक जारी रहता है।

इसी के तहत डोनाल्ड ट्रंप का कार्यकाल 20 जनवरी को खत्म होगा और 20 जनवरी को ही जो बाइडन अपने राष्ट्रपति कार्यकाल का शुभारंभ करेंगे।

ऐसे में कई लोगों के मन में यह सवाल उठते हैं कि चुनाव हार जाने के बाद भी तकनीकी तौर पर नए राष्ट्रपति को सत्ता सौंप देनी चाहिए, तो ऐसे में पुराने राष्ट्रपति का ढाई महीने का कार्यकाल क्यों जारी रहता है?

international-story-us-president-lost-election-still-he-work-for-two-and-half-months-as-president
Social Media

दरअसल अमेरिकी राजनीति के तहत तकनीकी तौर पर चुनाव हार जाने के बाद राष्ट्रपति को सत्ता सौंपने के लिए जो समय मिलता है उसे ट्रांजिशन समय कहा जाता है, जिसमें सत्ता हस्तांतरित की जाती है। इसके लिए नए राष्ट्रपति को सत्ता सौंपने के ट्रांजिशन के लिए पूर्व राष्ट्रपति को 78 दिन का समय दिया जाता है। यानी करीबन 11 हफ्ते और 1 दिन का समय।

मालूम हो कि साल 2000 में जॉर्ज डब्ल्यू बुश और अल गोर के बीच जब चुनावी नतीजे कोर्ट में होने के लिए गए थे। उस दौरान इस ट्रांजिशन अवधि के लिए 5 हफ्तों का समय कोर्ट कार्रवाई में खर्च हो गया था। ऐसे में इस समय को जोड़ते हुए अगले राष्ट्रपति को 6 हफ्तों का समय ट्रांजिशन के लिए दिया गया था।

international-story-us-president-lost-election-still-he-work-for-two-and-half-months-as-president
Social Media

दरअसल अमेरिका के प्रेसीडेंशियल ट्रांजिशन प्रोसेस के तहत पूर्व राष्ट्रपति अपनी तमाम शक्तियों के साथ ही सारे विभागों से संबंधित नीतिगत दस्तावेज आदि नए राष्ट्रपति को हस्तांतरित करता है। ऐसे में औपचारिक तौर पर चुनाव के दिन से शपथ ग्रहण के दिन के बीच की यह प्रक्रिया ट्रांजिशन प्रक्रिया कहलाती है जो कि 11 हफ्ते 1 दिन की होती है।

इसी कड़ी में हाल ही में नवंबर में हुए चुनाव की ट्रांजिशन प्रक्रिया 20 जनवरी को खत्म होगी और इसी दिन अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडन असल मायने में अमेरिका के राष्ट्रपति पद का कार्यभार संभालेंगे। टेक्निकल तौर पर नवंबर के पहले मंगलवार से लेकर शपथ ग्रहण समारोह के मौके के बीच को ट्रांजिशन प्रक्रिया यानी सत्ता सौंपने की शुरुआती कार्रवाई कहा जायेगा।

international-story-us-president-lost-election-still-he-work-for-two-and-half-months-as-president
Social Media

बता दे अमेरिका में पहली ट्रांजैक्शन प्रक्रिया साल 1933 में हुई थी। इस दौरान अमेरिकी संविधान में हुए 20वें संशोधन में ट्रांजिशन की यह अवधि छोटी की गई थी। उस दौरान यह प्रक्रिया 4 मार्च तक के लिए नियत थी हालांकि बाद में इसमें संशोधन करते हुए इसे 20 जनवरी तक तय कर दिया गया।