पहली बार ऐसा हुआ जब नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग ने भरी सभा में माँगी माफी, लगे रोने, जानें क्यों

0
2




अक्सर अपनी क्रूरता, कठोरता और तानाशाही के लिए पूरी दुनियाभर में जाने जाने वाले उत्तर कोरिया के शासक ने पहली बार अपनी नाकामियों के लिए जनता से माफी मांगी है। पूरी भरी सभा में उनकी आँखें नम हो गयी थी।उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग की आंखें तब भर आई जब वह सैन्य परेड में भाषण देने के लिये गये। उन्होंने देश की खातिर बलिदान देने वाले सैनिकों को धन्यवाद दिया है। वह भाषण देते हुए अपनी बात पर ही नम हो गए और रोने लगे। इसके साथ ही वह नॉर्थ कोरिया के लोगों की जीवन को बेहतर बनाने में विफल रहने पर सब से माफी मांगी है।समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक किम जोंग उन ने अपने पार्टी की 75 वीं वर्षगांठ पर जनता को संबोधित करते हुए अपनी मन की बात कही है। उन्होंने कोरोना वायरस और विनाशकारी तूफानों से लड़ने के लिए सेना के बलिदान को धन्यवाद दिया है।

राज्य टेलीविजन स्टेशन द्वारा जारी किए गए एडिटेड वीडियो फुटेज में किम जोंग के आँखों में आँसू दिख रहे थें। एक समय ऐसा भी आया जब वह भाषण देते देते रोने लगे और उनका गला बंद हो गया। वह भाषण देते हुए अपने आप के आंसू भी पोछ रहे थे।कार्यक्रम को संबोधित करते हुए किम जोंग उन ने यह कहा कि एक भी उत्तर कोरियाई कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं हुआ है। हालांकि अमेरिका और दक्षिण कोरिया को इस दावे पर संदेह बना हुआ है।

किम ने कहा है कि एंटी कोरोना वायरस उपायों,अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों और कई तूफानों के प्रभाव ने सरकार को नागरिकों के जीवन में सुधार लाने से रोक रखा है। इसमें देश की सेना का सबसे बड़ा योगदान है।

किम जोंग ने अपने भाषण में कहा कि मेरे प्रयास और इमानदारी से हमारे लोगों के जीवन में कठिनाइयां कम नहीं हुई है। इन लोगों का सदा मेरे ऊपर विश्वास बना रहा है और सदा मुझे सहयोग किया है।
उत्तर कोरिया पहले से ही अपनी अर्थव्यवस्था में परमाणु हथियारों और बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम पर प्रतिबंध लगाने से गंभीर रूप में प्रभावित हो चुका है। इसके बाद कोरोना वायरस पर को को रोकने के प्रयास में देश ने सीमा पर यातायात को पूरी तरह से बंद कर दिया है जिससे वहां की अर्थव्यवस्था लगातार बिगड़ रही है या भी माना जाता रहा है कि ऐसा पहली बार हुआ है जब किंग जोंग ने सार्वजनिक तौर पर अपने देश के लोगों से माफी मांगी हो।