बेटे की हार पर शत्रुघ्न सिन्हा ने तोड़ी चुप्पी, ईवीएम को कहा एवरी वोट मोदी मशीन!

0
6

शत्रुघ्न सिन्हा ने बुधवार को ईवीएम पर भी निशाना साधा था, उन्होने ट्वीट कर लिखा था कि कल बिल्कुल अराजक माहौल में उत्साह, उम्मीदों, पूर्वानुमान, भ्रम, चिंता तथा उथल-पुथल का दिन था।

New Delhi, Nov 13 : बिहार चुनाव में कई दिग्गजों को हार का सामना करना पड़ा, बॉलीवुड के पूर्व स्टार तथा पूर्व सांसद शत्रुघ्न सिन्हा के बेटे लव सिन्हा को भी बांकीपुर विधानसभा सीट से हार का सामना करना पड़ा, बेटे की हार के बाद शॉटगन का भी रिएक्शन सामने आया है, चुनावी नतीजों को लेकर रिटर्निंग अधिकारियों तथा प्रशासन पर निशाना साधते हुए शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि मेरा 37 वर्षीय बेटा लव सिन्हा पूरे जुनून के साथ चुनाव लड़ा, लेकिन जब आप अवांछनीय तत्वों से घिरे हों, तो ज्यादा कुछ किया भी नहीं जा सकता।

बेटे की हार पर क्या कहा
लव सिन्हा की हार पर शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा ये नजरिया होता है, आप क्या देख रहे हैं, गिलास आधा भरा है या आधा खाली है, मैं भी अपना पहला चुनाव हारा था, पिछले साल आम चुनाव में मैं और मेरी पत्नी दोनों दूसरे नंबर पर रहे थे, राजनीति में लव सिन्हा के भविष्य पर बॉलीवुड के पूर्व स्टार ने कहा कि मैं हमेशा अपने बच्चों के साथ रहा हूं, मैंने कभी अपने बच्चों की जिंदगी और करियर में हस्तक्षेप नहीं किया, इतना ही नहीं मैं अपनी बेटी सोनाक्षी को भी बिना मांगे राय नहीं देता, मैं लव के लिये ज्यादा प्रचार नहीं कर पाया, पर कांग्रेस के टिकट पर बांकीपुर सीट से चुनाव लड़ने का फैसला खुद लव का था।

ईवीएम पर भी साध चुके हैं निशाना
शत्रुघ्न सिन्हा ने बुधवार को ईवीएम पर भी निशाना साधा था, उन्होने ट्वीट कर लिखा था कि कल बिल्कुल अराजक माहौल में उत्साह, उम्मीदों, पूर्वानुमान, भ्रम, चिंता तथा उथल-पुथल का दिन था, जहां ईवीएम सिर्फ इलेक्टरल वोटिंग मशीन नहीं बल्कि कई के अनुसार एवरी वोट मोदी मशीन थी।

परिवार की लगातार तीसरी हार
ये सिन्हा परिवार की लगातार तीसरी हार है, इससे पहले 2019 लोकसभा चुनाव में शत्रुध्न सिन्हा को पटना साहिब सीट से रविशंकर प्रसाद और उनकी पत्नी पूनम सिन्हा को सपा के टिकट पर लखनऊ सीट से राजनाथ सिंह के सामने हार का सामना करना पड़ा, इस बार विधानसभा चुनाव में शत्रुघ्न सिन्हा के बेटे लव सिन्हा को बांकीपुर विधानसभा सीट पर बीजेपी के नितिन नवीन से 39 हजार वोटों से हार का सामना करना पडा।