थाना प्रभारी की मौत, बेटे की शादी के लिए नहीं मिली छुट्टी, तबीयत बिगड़ने के बाद अस्पताल में तोड़ा दम

0
3

राजस्थान के भरतपुर जिले से एक बेहद मार्मिक मामला सामने आया है, जिसके तहत उच्चैन थाने में तैनात थाना प्रभारी होशियार सिंह ने दम तोड़ दिया है। उनके निधन के कारण ने हर सुनने वाले की आंखों में आंसू ला दिए है। दरअसल थाना प्रभारी होशियार सिंह के बेटे की शादी 10 दिन बाद है। ऐसे में बेटे की शादी से पहले ही पिता ने दम तोड़ दिया, वहीं इस खबर से परिवार सदमें में है। परिवार का खुशी का माहौल अब मातम में बदल गया है।

rajasthan-uchhain-station-in-charge-hoshiyar-singh-died
Social Media

बेटे की शादी से पहले पिता का निधन

दरअसल थाना प्रभारी होशियार सिंह के बेटे की शादी की रस्में 16 नवंबर से शुरू होनी थी। 16 नवंबर को सगाई और टीके की रस्म और इसके बाद 22 नवंबर को बेटे की शादी थी। ऐसे में वह लगातार थाने में छुट्टी की अर्जी डाल रहे थे। वही पारिवारिक कार्यक्रम के लिए छुट्टी नहीं मिलने के चलते बीते कई दिनों से वह डिप्रेशन में चल रहे थे। ऐसे में बुधवार रात वह अपने कमरे में जोर-जोर से रोने लगे।

rajasthan-uchhain-station-in-charge-hoshiyar-singh-died
Social Media

रो-रो कर बिगड़ी तबीयत

बुधवार रात अपने कमरे में फूट-फूटकर रोने के कारण उनकी तबीयत बिगड़ गई। इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां जांच में पता चला कि उनका बीपी काफी कम हो गया है। इसके बाद उन्हें भरतपुर रैफर कर दिया गया। भरतपुर अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

rajasthan-uchhain-station-in-charge-hoshiyar-singh-died
Social Media

सदमे में परिवार

थाना प्रभारी के निधन की अचानक खबर आने से परिवार सदमे में है। वहीं मृतक होशियार सिंह के बेटे का कहना है कि उन्होंने घर में किसी को यह बात नहीं बताई थी कि उन्हें छुट्टी नहीं मिल रही है। रात को जब उनसे बात हुई तो यह जरूर लगा था कि उनकी तबीयत काफी बिगड़ी हुई है। वही डॉक्टर उनकी मौत का कारण कोरोना संक्रमण को बता रहे हैं।

Social Media

कार्यवाहक एसपी मूल सिंह का बयान

वहीं दूसरी ओर इस मामले पर अपना पक्ष रखते हुए भरतपुर के कार्यवाहक एसपी मूल सिंह राणा का कहना है कि थाना प्रभारी होशियार सिंह के निधन का कारण कोरोना महामारी है। मौत के बाद उनके शव की जांच की गई तो सामने आया कि वह कोरोना पॉजिटिव थे। वही छुट्टी ना मिलने की बात पर उन्होंने अपना पक्ष जाहिर करते हुए कहा कि दरअसल क्षेत्र में गुर्जर आंदोलन चल रहा है ऐसे में उन्हें छुट्टी देने का फैसला लेना पड़ा था।