बिहार चुनाव में काउंटिंग के दौरान धांधली के मामला में आया मुख्य चुनाव आयुक्त का बयान, जानिए

0
6

बिहार विधानसभा चुनाव की मतगणना में अनियिमतता संबंधी विपक्षी दलों के आरोपों पर मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने गुरुवार को कहा कि निर्वाचन आयोग राजनीतिक दलों की टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया नहीं देता और आखिर फैसला जनता के हाथ में होता है.

उन्होंने यह भी कहा कि बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी पहले ही इन सारी चीजों पर जवाब दे चुके हैं.  बता दें कि निर्वाचन आयोग ने भी 10 नवंबर को चार बार संवाददाता सम्मेलन किए थे जिनमें मतगणना की प्रक्रिया के विभिन्न पहलुओं पर प्रतिक्रिया दी गई थी.

अरोड़ा ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम राजनीतिक संगठनों की ओर से की गई टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया नहीं देते. यह उनका फैसला है, उन्होंने क्या कहा और क्यों कहा। आखिरी फैसला लोगों के हाथ में होता है.’’

बता दें कि बिहार में ‘धीमी गति से मतगणना’ संबंधी आरोप पर मुख्य निर्वाचन आयोग ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण दूरी संबंधी नियम के अनुपालन में हर मतदान केंद्र पर मतदाताओं की अधिकतम संख्या 1,000 तक सीमित की गई थी जिस कारण 33 हजार मतदान केंद्र बढ़ गए. इस बार बिहार में एक लाख से अधिक मतदान केंद्र थे.

उनके अनुसार , अधिक मतदाअन केंद्र होने के कारण 63 फीसदी अधिक अतिरिक्त ईवीएम का इस्तेमाल किया गया. अरोड़ा ने साथी चुनाव आयुक्तों सुशील चंद्र और राजीव कुमार के साथ राजघाट जाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी. उन्होंने कहा कि आयोग ने 2019 के लोकसभा चुनाव के भी सफलतापूर्ण संपन्न होने पर राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि दी थी.