NDA को तोड़ने की कोशिश है जारी, जीतन राम मांझी का बड़ा दावा ! आ रहे हैं फोन  

0
5

मांझी, विधानसभा चुनाव से पहले विपक्षी महागठबंधन में शामिल थे । उन्‍हें हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के विधायक दल का नेता चुना गया है ।

New Delhi, Nov 13: बिहार चुनाव के नतीजें आ गए हैं, लेकिन महागठबंधन हार मानने को तैयार नहीं । तेजस्‍वी यादव ने चुनाव परिणाम को चुनाव आयोग का नतीजा बताकर कई तरह की गड़बड़ी के आरोप मढ़े हैं । वहीं इस बीच खबर सियासी जोड़तोड़ की भी आने लगी है । एनडीए के साथ जीतन राम मांझी की पार्टी हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा की ओर से ये दावा किया गया है कि बिहार में राजनीतिक ड्रामा अभी जारी है । उनकी पार्टी को दूसरे दल के लोग फोन कर रहे हैं ।

हम पार्टी के प्रवक्‍ता का दावा
हिंदुस्‍तान आवाम मोर्चा के प्रवक्ता दानिश रिजवान के मुताबिक Nitish Manjhi उनकी पार्टी के पास दूसरे दल के लोग फोन कर रहे हैं और गठबंधन करने की बात कह रहे हैं । हालांकि रिजवान ने स्‍पष्‍ट कर दिया है कोई भी पार्टी हमें तोड़ने की कोशिश क्यों न करे लेकिन हम किसी भी कीमत पर एनडीए का साथ नहीं छोड़ेंगे । दानिश रिजवान ने बताया – विपक्ष के कई हमारे मित्र गठबंधन को लेकर मुझे फोन कर रहे हैं । पार्टी प्रवक्ता होने के नाते मैं ये बात स्पष्ट कर देना चाहता हूं हम किसी भी कीमत पर एनडीए का साथ छोड़ने को तैयार नहीं हैं ।

गठबंधन के साथ रहेंगे
रिजवान ने कहा – हमारे नेता जीतन राम मांझी ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में चुनाव में थी, हम उनके साथ थें और जबतक प्राण है तबतक उनके साथ ही रहेंगें । आपको बता दें, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा सेक्युलर के प्रमुख जीतन राम मांझी को पार्टी में चार सदस्यीय विधायक दल का नेता चुना गया है । पार्टी के सभी जीते हुए विधायक मांझी के आवास पहुंचे थे । विधानसभा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन के लिए पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने मांझी को सम्मानित किया ।

मांझी नहीं बनेंगे मंत्री
पार्टी में विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद जीतन राम मांझी ने कांग्रेस के विजेता विधायकों को राज्य की प्रगति के लिए एनडीए में शामिल होने कीjitan ram manjhi सलाह दे डाली । मांझी ने कहा कि व्यक्तिगत तौर पर जहां तक मेरा मानना है तो हम कहेंगे कि कांग्रेस के विधायक विचार करें और नीतीश जी का साथ दें । इसके अलावा मांझी ने बड़ी बात कहते हुए ये भी स्‍पष्‍ट कर दिया कि एक बार प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने के बाद वह अब नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली नई सरकार में मंत्री नहीं बनेंगे ।