माँ को मजबूरी में पुलिस को सौंपना पड़ा बच्चा, रोती रही लेकिन इस वजह से कुछ हो नही सका

0
7

एक माँ और बच्चे के बीच में जो बंधन होता है जो लगाव होता है वो किसी से भी छुपा हुआ नही होता है और जब इस पर बात या फिर चर्चा होती है तो लोगो के मन भर ही आते है और ये बात शायद आप भी बखूबी समझते ही होंगे. चाहे बच्चे को खुद ने जन्म दिया हो या फिर न दिया हो ये बात यहाँ पर तो एक तरह से मायने ही नही रखती है और इस बात को तो आप भी कही न कही बखूबी  समझते ही होंगे. ऐसा ही कुछ अभी हाला ही में उत्तर प्रदेश में भी देखना पड़ा.

पूरी घटना अब से कुछ महीने पहले ट्रांस यमुना कॉलोनी में शुरू होती है जहाँ पर मीना नाम की एक महिला कही से गुजर रही थी तो उसे एक सडक किनारे शिशु पड़ा हुआ मिला और जब उन्होंने शिशु देखा तो उनको शक हुआ और शिशु को उठाकर के कुछ समय इन्तजार करते रहे.

मगर वो शिशु को लेने के लिए कोई भी नही आया. इस पर वो अपने घर उसे ले गयी और अपनी बहू शबनम को उसे दे दिया. शबनम उसका ख्याल रखने लगी और बच्चे को दूध पिलाने से लेकर नहलाने धुलाने तक सब करने लगी. दोनों के ही बीच में माँ बेटे का एक तरह से बॉन्ड सा बन गया लेकिन अब उन्होंने इस बारे में पुलिस को भी सूचना दे दी थी कि ये बच्चा उन्हें कही पर मिला हुआ है. इस कारण से पुलिस उस बच्चे को लेने के लिए पहुँच गयी.

शबनम कहने लगी मेने इसे कई महीनो तक पाला है ये मेरा बच्चा है लेकिन क़ानून के अनुसार वो उसे नही रख सकती है. पहले पुलिस कुछ वक्त तक इस बच्चे के माता पिता की तलाश करेगी और फिर भी नही होगा तो फिर बच्चे को कानूनी रूप से अडॉप्ट करना पड़ेगा. नियम तो आखिर नियम होते है.