सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड लेने के ये हैं 10 बड़े फायदे, मात्र एक दिन लेने का मौका!

0
7

नई द‍िल्‍ली: सोना में निवेश करने के लिए अच्छी खबर है। अगर आप भी आज धनतेरस के मौके पर सोना खरीदना चाहते है तो आपके ल‍िए अच्छा मौका है। आप चाहें तो सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीद सकते हैं। एसजीबी सोने में निवेश का एक काफी बेहतर माध्यम है। जैसा कि सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम 2020-21 की आठवीं सीरीज शुरू हो गई है।

इस सीरीज के तहत सब्सक्रिप्शन 9 नवंबर को शुरू हुए थे और 13 नवंबर यानी कल बंद होंगी। तो इस तरह आपके पास बस कल तक का मौका है जल्‍दी करें और सस्‍ते में सोना खरीदने का मजा लें। इस सीरीज में एक ग्राम सोने की कीमत 5,177 रुपये तय की गई है। इसके साथ ही ऑनलाइन सब्सक्रिप्शन पर 50 रुपये प्रति ग्राम की छूट का भी प्रावधान है।

 

जानिए क्या हैं सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश के फायदे

  • सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड का एक खास फायदा यह है कि यह प्रारंभिक निवेश की राशि पर सालाना 2.50 फीसद की एक निश्चित ब्याज दर के साथ आता है। ब्याज निवेशक के बैंक खाते में छमाही आधार पर जमा होता है।
  • सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को बैंक (स्मॉल फाइनेंस बैंक एवं पेमेंट बैंक को छोड़कर), स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया, निर्धारित पोस्ट ऑफिस एवं मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज से खरीद सकते हैं।
  • सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की कीमत 999 शुद्धता वाले सोने की कीमत से लिंक्ड होती है।
  • सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश करके आप इसे लॉकर में रखने के खर्च और चोरी होने के जोखिम से बच सकते हैं।
  • यहां निवेशक मैच्योरिटी के समय की सोने की बाजार कीमत मिलने और आवधिक ब्याज के बारे में आश्वस्त होते हैं।
  • सॉवरेन बॉन्‍ड में निवेश से आप जुलरी के रूप में सोने की खरीदारी के साथ मेकिंग चार्जेज और शुद्धता जैसे मुद्दों से मुक्त होते हैं।
  • इसके साथ ही ब्याज करयोग्य होता है, लेकिन बॉन्ड्स के रिडंप्शन के समय पूंजीगत लाभ पर टैक्स में इंडिविजुअल्स के लिए छूट होती है।
  • एसजीबी का उपयोग लोन्स के लिए संपार्श्विक के रूप में किया जा सकता है।
  • सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड्स भारत सरकार की ओर से भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी किये जाते हैं। इसलिए इनकी सॉवरेन गारंटी होती है।

इतनी अवधि के लिए जारी होता है बॉन्ड
जानकारी के मुताबिक, ये बॉन्ड आठ साल की अवधि के लिये जारी किये जाते हैं और पांच साल के बाद इससे बाहर निकलने का विकल्प भी होता है। आवेदन कम से कम एक ग्राम और उसके गुणक में जारी किये जाते हैं। व्यक्तिगत निवेशक न्यूनतम एक ग्राम और अधिकतम चार किलो तक के लिये निवेश कर सकता है।