राजद प्रत्याशी के जीत की घोषणा, फिर जदयू के खाते में सीट, 13 वोटों से हो गया खेल!

0
3

बिहार चुनाव के नतीजे देर रात तक चली मतगणना के बाद मंगलवार को जारी कर दिये गये, एनडीए को 125, महागठबंधन को 110, लोजपा को 01 जबकि अन्य के खाते में 7 सीटे गई है।

New Delhi, Nov 11 : बिहार चुनाव में हिलसा सीट सिर्फ 13 वोटों के अंतर से जदयू के खाते में चली गई, चुनाव आयोग के आधिकारिक वेबसाइट पर मंगलवार देर रात अपडेट की गई सूचना के मुताबिक जदयू के कृष्ण मुरारी शरण उर्फ प्रेम मुखिया को 61,616 वोट मिले हैं, जबकि उनकी प्रतिद्वंदी राजद उम्मीदवार अत्री मुनि उर्फ शक्ति सिंह यादव को 61,603 वोट मिले है, इस तरह हिसला सीट सिर्फ 13 वोटों के अंतर से जदयू के खाते में चली गई।

गड़बड़ी का आरोप
इससे पहले रात करीब 10 बजे जब हिलसा सीट पर वोटों की गिनती जारी थी, तो उस समय राजद ने गिनती में गड़बड़ी का आरोप लगाया था, evm 1 पार्टी ने ट्वीट कर आरोप लगाया था कि हिलसा विधानसभा क्षेत्र से राजद प्रत्याशी शक्ति सिंह यादव को निर्वाचन अधिकारी ने 547 वोटों से विजयी घोषित कर दिया था, सर्टिफिकेट के लिये इंतजार करने को कहा गया, सीएम आवास से रिटर्निंग अधिकारी का फोन आता है, फिर अचानक अधिकारी कहते हैं कि डाक मत रद्द होने के कारण आप 13 वोट से हार गये, वहीं चुनाव आयोग ने इन आरोपों से इंकार किया है।

119 सीटों की सूची
दरअसल राजद ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर ट्वीट कर कहा था कि ये उन 119 सीटों की सूची है, जहां गिनती पूरा होने के बाद महागठबंधन के उम्मीदवार जीते थे, Tejashwi sanjay1 रिटर्निंग ऑफिसर ने उन्हें जीत की बधाई दी, लेकिन अब सर्टिफिकेट नहीं दे रहे हैं, वो कह रहे हैं, कि आप हार गये हैं, जबकि चुनाव आयोग की वेबसाइट पर भी इन्हें जीता हुआ दिखाया गया है, जनतंत्र में ऐसी लूट नहीं चलेगी।

क्या रहा परिणाम
बिहार चुनाव के नतीजे देर रात तक चली मतगणना के बाद मंगलवार को जारी कर दिये गये, एनडीए को 125, महागठबंधन को 110, लोजपा को 01 जबकि अन्य के खाते में 7 सीटे गई है, बिहार में एक बार फिर नीतीश कुमार ने साबित कर दिया कि उनका सुशासन जनता की पहली पसंद है, वहां के लोग अभी भी उन पर भरोसा करते हैं, हालांकि इस चुनाव को पूरी तरह से नीतीश कुमार के पक्ष में करने का श्रेय पीएम मोदी को जाता है, मोदी ने जिस तरह से बिहार चुनाव में रैलियां की, उसके बाद से एनडीए पर जनता का भरोसा बढा, पीएम ने लोगों से अपील की थी कि उनका वोट एक बार फिर बिहार को जंगलराज से बचा सकता है, पीएम की यही बात शायद लोगों के दिलों में घर कर गई।