मोदी मैजिक ने रखी नीतीश कुमार की लाज, जहां-जहां किया कैम्पेन, वहां-वहां मिली जीत!

0
2

पहली बार जदयू इतनी कमजोर स्थिति में देखने को मिल रही है, पार्टी को सिर्फ 41 सीटें मिली है, साफ है कि बिहार की राजनीति में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरने के साथ ही बीजेपी गठबंधन में भी बिग ब्रदर के तौर पर उभरी है।

New Delhi, Nov 11 : बिहार विधानसभा चुनाव में भले ही नीतीश कुमार कुछ फीके पड़ते दिख रहे हों, जदयू की सीटें उम्मीद से कम आई हो, लेकिन पीएम मोदी का कमाल जरुर देखने को मिला है, पीएम ने बिहार चुनाव के दौरान करीब दर्जन भर रैलियां की थी, और ऐसी ज्यादातर सीटों पर एनडीए आगे चल रहा है, पीएम ने सासाराम, गया, भागलपुर, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, पटना, छपरा, पूर्वी चंपारण, समस्तीपुर, पश्चिमी चंपारण, सहरसा, फारबिसगंज में एनडीए उम्मीदवारों के पक्ष में रैलियां की थी।

मोदी का जादू
भागलपुर की बात करें, तो बीजेपी उम्मीदवार रोहित पांडे कांग्रेस प्रत्याशी अजित शर्मा से जीते, दरभंगा की कुल 10 सीटों में से 9 पर एनडीए उम्मीदवारों की बढत कायम है, Modi Nitish मुजफ्फरपुर की बात करें, तो बीजेपी उम्मीदवार सुरेश कुमार शर्मा आगे चल रहे हैं, इसके अलावा पटना की ज्यादातर सीटों पर जदयू-बीजेपी का अलायंस आगे चल रहा है। बीजेपी के आलोक रंजन सहरसा सीट से आगे चल रहा है, जहां राजद से लवली आनंद चुनावी मैदान में है।

मोदी मैजिक
इन रूझानों से साफ है कि पीएम मोदी का मैजिक बिहार चुनाव में सीधा असर दिखा रहा है, जिसकी वजह से एनडीए उम्मीदवारों ने बढत बना लिया है, Modi Nitish यदि रुझान नतीजों में तब्दील होते हैं, तो इससे ये भी स्पष्ट होगा, कि जनता में अब भी पीएम मोदी का जादू बरकरार है, अब तक के रुझानों में बीजेपी राज्य में 76 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है और दूसरे स्थान पर राजद है।

जदयू की कमजोर स्थिति
पहली बार जदयू इतनी कमजोर स्थिति में देखने को मिल रही है, पार्टी को सिर्फ 41 सीटें मिली है, साफ है कि बिहार की राजनीति में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरने के साथ ही बीजेपी गठबंधन में भी बिग ब्रदर के तौर पर उभरी है, ये स्थिति महत्वपूर्ण है, क्योंकि लंबे समय से चले आ रहे गठबंधन में उसकी भूमिका जूनियर पार्टनर के तौर पर ही रही है, लेकिन इस बार बिहार चुनाव परिणाम टर्निंग प्वाइंट हो सकता है।