अमेरिका के राष्ट्रपति पद से हटने के बाद डोनाल्‍ड ट्रंप पर आ सकती है मुसीबत, सीधे जा सकते हैं जेल!

0
3

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के नतीजे आ चुके हैं, लेकिन डोनाल्‍ड ट्रंप के लिए ये हार मुश्किलों भरी हो सकती है, पूरी खबर आगे पढ़ें ।

New Delhi, Nov 10: अमेरिका की जनता ने डोनाल्‍ड ट्रंप को करारा झटका देते हुए जो बाइडन को अपना राष्ट्रपति चुन लिया है । ट्रंप राष्ट्रपति पद पर दोबारा वापसी नहीं कर सके । लेकिन उनकी ये चुनावी हार आने वाले समय में उनके लिए बड़ी मुसीबत बन सकती है । राजनीति के जानकारों का कहना है पद से हटते ही ट्रंप सीधे जेल पहुंच सकते हैं । राजनीति के जानकारों के मुताबिक ट्रंप के कार्यकाल में हुए कथित घोटालों की जांच से पता चलता है कि उन्हें राष्ट्रपति पद से हटने के बाद कई आपराधिक कार्यवाही के साथ मुश्किल वित्तीय स्थिति का भी सामना करना पड़ सकता है । अमरीकी कानून के तहत राष्ट्रपति पद पर रहते हुए उनके ख़िलाफ़ आधिकारिक कार्यों के लिए मुक़दमा नहीं चलाया जा सकता है ।

आ सकती है मुसीबत
अब चूंकि वो राष्‍ट्रपति नहीं रह जाएंगे इसलिए उन पर कार्रवाई की जा सकती है । बीबीसी की एक रिपोर्ट में, पेस यूनिवर्सिटी में कॉनस्टीच्यूशनल लॉ के प्रोफेसर बैनेट गर्शमैन कह रहे हैं कि इस बात की संभावना है कि डोनाल्ड ट्रंप पर आपराधिक मामले चलाए जाएंगे । प्रोफेसर बैनेट गर्शमैन ने न्यूयॉर्क में एक दशक तक अभियोक्ता के तौर पर सेवाएं दी हैं । उन्‍होंने बताया कि राष्ट्रपति ट्रंप पर बैंक धोखाधड़ी, कर धोखाधड़ी, मंडी लॉन्ड्रिंग, चुनावी धोखाधड़ी जैसे कई मामलों में आरोप लग सकते हैं ।

हो सकती है वित्‍तीय समस्‍याएं …
अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट्स तो ये तक कह रही हैं कि पद से हटते ही डोनाल्ड ट्रंप को भारी वित्तीय घाटे का सामना भी करना पड़ सकता है । जिसमें बड़े पैमाने पर निजी कर्ज और उनके कारोबार की मुश्किलें शामिल हैं । न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अगले चार सालों में ट्रंप को 30 करोड़ डॉलर से ज़्यादा का कर्ज़ चुकाना है । लेकिन ट्रंप के निज़ी निवेश बहुत अच्छी स्थिति में नहीं हैं । उनका राष्‍ट्रपति पद पर होना उनकी उनकी क़ानूनी और वित्तीय समस्याओं में कुछ समय के लिए उनका कवच बन गया है, लेकिन हालात ऐसे नहीं रहेंगे तो उनके बहुत बरे दिन आ सकते हैं ।

ट्रंप लगा रहे हैं साजिश का आरोप
वहीं डोनाल्‍ड ट्रंप अब तक ये दावा करते आए हैं कि वो अपने दुश्मनों की साज़िशों का शिकार हुए हैं । उन पर झूठे आरोप लगाए गए हैं कि उन्होंने राष्ट्रपति बनने से पहले और पद पर रहते हुए भी अपराध किए हैं । ट्रंप ने ये भी कहा कि उनके प्रशासन पर लगे घोटालों के आरोपों की न्याय विभाग की जांच और इस साल की शुरुआत में उन पर चलाए गए महाभियोग से वो सफलतापूर्वक बरी हो गए । हालांकि ये सभी जांच और प्रक्रियाएं राष्ट्रपति को अभियोग से मिली सुरक्षा के दौरान हुई थीं । इस दौरान न्याय विभाग बार-बार ये कहता रहा है कि राष्ट्रपति के ख़िलाफ़ पद पर रहते हुए आपराधिक मुकदमा नहीं चलाया जा सकता ।