तेजस्वी के आंख, नाक और कान कहे जाते हैं ये सिपहसलार, परदे के पीछे निभाया बड़ा रोल!

0
2

राजद के कई नेताओं ने तेजस्वी यादव को आगे बढने में मदद की, इन नेताओं ने रणनीति से लेकर प्रत्याशियों के चयन तक हर तरह से तेजस्वी के लिये चुनावी मैदान तैयार किया।

New Delhi, Nov 10 : बिहार चुनाव के नतीजे आधिकारिक रुप से कुछ देर में घोषित हो जाएंगे, रुझानों में राजद सबसे बड़ा दल बनता दिख रहा है, ऐसे में बिहार के अगले सीएम लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव हो सकते हैं, पिता लालू की गैरमौजूदगी में तेजस्वी ने इस बार चुनाव में जमकर पसीना बहाया, उनकी मेहनत रंग लाती भी दिख रही हैं, तेजस्वी की इस सफलता के पीछे उन नेताओं की भूमिका अहम रही, जिन्हें तेजस्वी का नाक, कान और आंख माना जाता है।

आगे बढने में मदद
राजद के कई नेताओं ने तेजस्वी यादव को आगे बढने में मदद की, इन नेताओं ने रणनीति से लेकर प्रत्याशियों के चयन तक हर तरह से तेजस्वी के लिये चुनावी मैदान तैयार किया, इन नेताओं में सबसे पहला नाम जगदानंद सिंह का आता है, 74 वर्षीय जगदानंद सिंह लालू के सबसे करीबियों में से एक हैं, राजद के संस्थापक सदस्यों में शामिल रहे जगदानंद सिंह के हाथों में पार्टी की कमान है, टिकट बंटवारे में उनकी भूमिका काफी अहम रही। तेजस्वी को महागठबंधन की ओर से सीएम उम्मीदवार की घोषणा जगदानंद सिंह ने ही की थी, इतना ही नहीं वाम दलों को महागठबंधन में लाने का फैसला भी उनका ही था।

मनोज झा और संजय यादव
इस कड़ी में दूसरा नाम राजद के राज्यसभा सांसद मनोज झा का है, इस चुनाव में तमाम राजनीतिक रणनीतियां मनोज झा ने बनाई थी, जिस पर काम करते हुए तेजस्वी यादव ने मतदाताओं का भरोसा जीता है, इसके साथ ही संजय यादव ने भी बड़ी भूमिका निभाई, वो तेजस्वी के राजनीतिक सलाहकार हैं, वे तेजस्वी के साथ साये की तरह रहते हैं, इस चुनाव में राजद और तेजस्वी के सोशल मीडिया हैंडल से लेकर उनकी रैलियों और जनसभाओं की रुप रेखा तक सब कुछ संजय देखते थे, संजय और तेजस्वी दिल्ली में साथ में क्रिकेट खेलते थे, तब से दोनों की दोस्ती है।

डॉ. उर्मिला ठाकुर
इसके अलावा राजद महिला विंग की प्रदेश अध्यक्ष डॉ. उर्मिला ठाकुर ने महिलाओं के बीच पार्टी के लिये काफी अहम भूमिका निभाई, इसके अलावा राजद के युवा नौकरी संवाद मंच पर तेजस्वी के साथ मजबूती से उर्मिला ठाकुर खड़ी रही, नीतीश ने अतिपिछड़ा वोटबैंक में सेंधमारी में राजद की ओर से प्रो. रामबली सिंह चंद्रवंशी ने भी बड़ी भूमिका निभाई।