दीवाली के फेस्टिव सीजन में आप हो सकते हैं ऑनलाइन ठगी का शिकार,बचने का क्या है उपाय

0
3

नई दिल्लीः आज के बिजी समय में ज्यादातर लोग फेस्टिव सीजन में ऑनलाइन शॉपिंग को सबसे आसान मानते हैं. आपको बता दें ऐसे में कई बार सस्ते सामान की चाहत में कुछ लोग फर्जी साइट्स और वेबसाइट के कारण ठगी का शिकार हो जाते हैं. अक्सर दीवाली पर बड़ी संख्या में कस्टमर्स ऑनलाइन शॉपिंग करने के लिए नई वेबसाइट से ऑर्डर कर देते हैं. जिसके बाद पेमेंट होने की दशा में ग्राहक को किसी भी तरह की कोई डिलीवरी नहीं दी जाती है.

आपको बता दें ऐसे हालात से बचने के लिए कस्टमर्स को पहले से सूझबूझ दिखानी जरूरी होती है. ज्यादातर कस्टमर्स ऑनलाइन शॉपिंग के लिए फ्लिपकार्ट और अमेजन जैसे प्लेटफॉर्म पर सेल का इंतजार करते हैं. ऐसे समय में ग्राहक के ऑनलाइन शॉपिंग में बढ़ते इंटरेस्ट के बीच कई-कॉमर्स कंपनियों की वेबसाइट्स और ऐप के जरिए धोखाधड़ी आम बात है. ज्यादातर फर्जी वेबसाइट के जरिए लोगों को ज्यादा ऑफर के लालच देकर ऑनलाइन ठगी का शिकार बनाया जाता है. आइए जानते हैं ये कैसे जाल में लोगों को फंसाते हैं और इनसे कैसे बचा जाए.

ऐसे बनाये जाते हैं शिकार

दरअसल इन दिनों साइबर अपराधियों ने बड़ी बड़ी नामी ई-कॉमर्स कंपनियों की वेबसाइट और एप का क्लोन बना लिए हैं. ये वेबसाइट आपको ऑरीजनल वेबसाइट के जैसी ही लगेंगी. आपको वेबसाइट के प्रोडक्ट्स पर भारी ऑफर और डिस्काउंट देकर फंसाया जाएगा. लेकिन जब आप इन वेबसाइट्स या एप्स पर पेमेंट कर देंगे उसके कुछ देर बाद ये लिंक गायब हो जाएगा. इस तरह साइबर अपराधी बड़े ही शातिराना अंदाज में आपको चूना लगा सकते हैं. साइबर सेल ऐसी घटनाओं की जांच कर रहा है लेकिन ऑनलाइन लिंक डिलीट होने की वजह से इस तरह के क्राइम पर लगाम नहीं लग पा रही है.

कैसे चलता है पूरा नेटवर्क

साइबर अपराधी प्लेस्टोर पर ऐसी फर्जी एप्स को लॉन्च कर देते हैं जो काफी आसान होता है. आपके प्ले स्टोर पर आपको ऐसे कई फर्जी एप्स मिल जाएंगे. इन एप्स को ब्रांडेड ई-कॉमर्स वेबसाइट्स या एप्स के फर्जी क्लोन के तौर पर बनाया जाता है. उसके बाद शातिर अपराधी अपनी फर्जी वेबसाइट्स पर आपको सामानों पर 60 से 80 फीसदी तक का डिस्काउंट ऑफर करते हैं. आपको जब सस्ती चीजें मिल रही होती हैं तो आप तुरंत ऑर्डर कर देते हो. बस इसी सस्ते के झांसे में लोग फंस जाते हैं. आप अपने पसंदीदा सामान को कम कीमत में देखर तुरंत पेमेंट कर देते हैं. लेकिन आपके सामान की डिवरी कभी नहीं आती. जब आप उस लिंक को चेक करते हैं तो वो लिंक भी आपको डिलीट मिलता है.

ट्रैक करना होता है मुश्किल

ये अपराधी इतने शातिर होते हैं कि कई बार प्लेस्टोर की जगह जब गूगल में किसी सामान को ऑनलाइन चेक करते हैं तो ये लोग गूगल एडवर्ड्स के जरिए अपनी फर्जी साइट्स को ट्रेंड करा देते हैं. ऐसे में आप जब सामान खरीदने के लिए उन साइट्स या ऐप्स पर क्लिक करते हैं तो आपको भारी डिस्काउंट दिया जाता है. याद रखें ये ऐप्स आपके ऑर्डर के बाद डिलीट कर दिए जाते हैं. पुलिस का कहना है कि लिंक डिलीट होने की वजह से ऐसे लोगों को ट्रैक करना काफी मुश्किल है.
कई कस्टमर्स को ऐसी फर्जी ऐप्स और साइट्स के बारे में तब पता चला जब डिलीवरी नहीं आने पर उन्होंने कंपनी के कस्टमर केयर में फोन किया. सभी ई-कॉमर्स कंपनी के स्टमर केयर की ओर से बताया गया कि ऐसी उनकी कोई ऐप नहीं है और न ही कंपनी की ओर से ऐसा कोई ऑफर दिया जा रहा है.

ऑनलाइन फर्जी साइट्स से बचने का उपाय

आपको बता दें अगर आप किसी कंपनी की वेबासइट के बारे में इटरनेट से पता लगा सकते हैं ऑनलाइन ऐसी कई साइट्स हैं जो कंपनी के रजिस्ट्रेशन से लेकर कंपनी कितनी पुरानी है उसकी लीगलिटी क्या है ऐसी तमाम जानकारी आपको दे देंगी. कोई भी पेमेंट करने से पहले ई-कॉमर्स कंपनी के बारे में जांच लें.
किसी भी कंपनी के पेज पर नीचे जाकर कॉपीराइट वाला ऑप्शन जरूर देख लें. अगर कंपनी सही होगी तो यहां आपको वैट आई डी भी दिखाई देगी.
अगर वेबसाइट के आगे https नहीं लगा तो समझो ये फर्जी साइट है.
रजिस्टर्ड वेबसाइट के URL के सामने हमेशा लॉक लगा होता है इसे जरूर चेक कर लें.
वेबसाइट के होम पेज पर जाकर Contact पर क्लिक करें अगर यहां आपको एड्रेस जैसी जानकारी न मिले तो ऐसी साइट्स से शॉपिंग करने से बचें.