ये हैं देश के सबसे बड़े 10 घोटालों की लिस्ट, 5 में सामने आया गांधी-नेहरू परिवार का नाम

0
8

भारतीय राजनीति के दौर में एक बात बेहद कॉमन है कि जब-जब इलेक्शन का दौर आता है तब तक देश के घोटालों और राजनीतिक पार्टियों की इनमें संलिप्तता का जिक्र जरूर सामने आता है। ऐसे में आज हम आपको देश के 10 बड़े घोटालों के बारे में बताएंगे साथ ही बताएंगे कि किस तरह इन 10 घोटालों में से 5 में नेहरू-गांधी परिवार का नाम शामिल है।

भारत में अब तक हुए घोटालों में सबसे पहला नाम अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर है, इस घोटाले से सोनिया गांधी का नाम जुड़ने के बाद देश की राजनीति में काफी भूचाल आ गया था आजादी के बाद देश में अब तक ऐसे कई घोटाले सामने आ चुके हैं लेकिन इस स्कैम के सामने आने के बाद देश की सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस सवालों के घेरे में आ गई थी।

journal-knowledge-10-scams-case-of-india-history-five-involve-gandhi-nehur-family
Social Media

भारत में अब तक के 10 सबसे बड़े घोटाले

  1. अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर घोटाला
  2. 2जी स्पेक्ट्रम घोटाला
  3. नेहरू और मूंदड़ा स्‍कैंडल
  4. कॉमनवेल्थ गेम्स घोटाला
  5. नागरवाला स्कैंडल
  6. नेशनल हेराल्ड केस
  7. बोफोर्स घोटाला
  8. चारा घोटाला
  9. हवाला स्कैंडल
  10. स्टॉक मार्किट घोटाला

ये देश के सबसे बड़े दस घोटालों की लिस्ट है, जिसने ना सिर्फ देश की नींव हिला दी बल्कि साथ ही देश को खोखला भी कर दिया। ऐसे में इन दस घोटालों की लिस्ट में जिस पार्टी और उसके नेताओं का नाम सबसे ज्यादा शामिल था, वो थी स्वत्रांत्र भारत की सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी कांग्रेस…देश के दस सबसे बड़े घोटालों में से पांच घोटालों में कांग्रेस और उसके दिग्गजों के नाम सामने आये है।

Social Media

नेहरू और मूंदड़ा स्‍कैंडल

आजादी के कुछ सालों में ही जो सबसे पहले घोटाला सामने आया वो था 1951 का मूंदड़ा स्‍कैंडल। ये आजाद भारत का पहला घोटाला था। इस घोटाले में कोलकाता के व्‍यापारी हरिदास मूंदड़ा ने सरकारी दबाव के जरिए एलआईसी से अपनी छह कंपनियों में 12.30 करोड़ रुपए का निवेश कराया था।

ऐसे में बड़ी और शर्मनाक बात यह थी कि इस घोटाले के कारण तत्‍कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की बड़ी फजीहत हुई। इस घोटाले के कारण आजाद देश के पहले फाइनेंस मिनिस्‍टर टी टी कृष्‍णामाचारी को इस्‍तीफा देना पड़ा था।

Social Media

नागरवाला स्कैंडल

24 मई 1971 को भारतीय स्टेट बैंक की संसद मार्ग, दिल्ली की शाखा से 60 लाख रुपये नगद निकाल लिये गये, किन्तु इसके लिये किसी चैक का उपयोग करने की बजाय सफाई दी गई कि बैंक प्रबंधक को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने फोन पर ऐसा करने को कहा था। ये दूसरा घोटाला था जिसमें नेहरू-गांधी परिवार से प्रधानमंत्री पद पर बैठे किसी शख्स का नाम सामने आया था।

इस दौरान घोटाले का मुद्दा सामने आने के बाद बैंक के मैनेंजर ने बताया कि उनके पास आए एक फोन में बंगलादेश के एक गुप्त मिशन के लिए 60 लाख रुपये की मांग की गई और रसीद प्रधानमंत्री कार्यालय से लेने को कहा गया। कहा गया कि यह आवाज प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और पीएन हक्सर की थी। बाद में पता चला कि फोन वाला व्यक्ति कोई और था। रुपये लेने वाले और नकली आवाज निकालने वाला व्यक्ति रुस्तम सोहराब नागरवाला को गिरफ्तार किया गया। इसके बाद साल 1972 में उनका निधन हो गया और मामला भी वहीं खत्म हो गया और इसकी जांच बंद हो गई।

Social Media

बोफोर्स घोटाला

ये घोटाला दो देशों के बीच होने वाले रक्षा सौदे से जुड़ा था। दरअसल साल 1949 में यह बात सामने आयी थी कि स्वीडन की हथियार कंपनी बोफोर्स ने भारतीय सेना को तोपें सप्लाई करने का सौदा किया है। इस दौरान उन्होंने इस सौदे को हथियाने के लिये 80 लाख डालर की दलाली चुकायी थी।

बता दे, ये वो दौर था जब एक बार फिर केन्द्र में कांग्रेस की सरकार थी, जिसके प्रधानमंत्री राजीव गांधी थे। इस घोटाले का सबसे पहले खुलासा स्वीडन की रेडियो ने साल 1987 में किया था। इसे ही बोफोर्स घोटाला या बोफोर्स काण्ड के नाम से जाना जाता हैं।

journal-knowledge-10-scams-case-of-india-history-five-involve-gandhi-nehur-family
Social Media

अगस्‍टा वेस्‍टलैंड हेलिकॉप्‍टर घोटाला

अगस्‍टा वेस्‍टलैंड हेलिकॉप्‍टर घोटाले को लेकर आज भी कांग्रेस सरकार मुंह बंद किए बैठी है। गौरतलब है कि इस घोटाले से सोनिया गांधी का नाम जुड़ने पर देश की राजनीति में बड़ा भूचाल आ गया था और आज भी ये नाम लोगों के लिए इस घोटाले में सवाल बना हुआ है।

आगस्टा वेस्टलैण्ड हेलिकॉप्टर घोटाला भारत द्वारा आगस्टा वेस्टलैण्ड कम्पनी से खरीदे जा रहे हेलिकॉप्टरों से सम्बन्धित है। यह 2013-14 में सामने आया। इसमें कई भारतीय राजनेताओं और सैन्य अधिकारियों पर आगस्टा वेस्टलैण्ड से मोटी घूस लेने का आरोप है।

journal-knowledge-10-scams-case-of-india-history-five-involve-gandhi-nehur-family
Social Meida

नेशनल हेराल्ड केस

नेशनल हेराल्ड मामला दिसम्बर 2012 में सामने आया था, जिसमें भारत के प्रसिद्ध राजनेता सुब्रमनियन स्वामी ने सोनिया गाँधी, राहुल गांधी एवं उनकी कम्पनियों एवं उनसे सम्बन्धित अन्य लोगों के विरुद्ध केस दर्ज करते हुए बड़ा खुलासा किया है। इस मामले में गांधी परिवार को एक बहुत बड़ा झटका तब लगा जब प्रवर्तन निदेशालय नें 64 करोड़ रूपए की सम्पत्ति को स्थायी रूप से कुर्क कर दिया। ये सम्पत्तियाँ हरियाणा के पंचकुला में हैं।

गौरतलब है कि इस मामले में सुब्रमण्यम स्वामी का आरोप है कि गांधी परिवार हेराल्ड की संपत्तियों का अवैध ढंग से उपयोग कर रहा है, जिसमें दिल्ली का हेराल्ड हाउस और अन्य संपत्तियां शामिल हैं। दरअसल सबसे पहली बार वे इस आरोप को लेकर 2012 में कोर्ट गए।

कोर्ट ने लंबी सुनवाई के बाद 26 जून 2014 को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने सोनिया गांधी, राहुल गांधी के अलावा मोतीलाल वोरा, सुमन दूबे और सैम पित्रोदा को समन जारी कर पेश होने के आदेश जारी किए थे। फिलहाल अब तक इस मामले का कोई नतीजा सामने नहीं आया है।