बार खुल गए पर मंदिर नहीं, कंगना ने शिवसेना को लताड़ा, कहा – ‘सोनिया सेना तो बाबर सेना से भी..’

0
2

महाराष्ट्र में धार्मिक स्थलों को खोलने को लेकर सीएम उद्धव ठाकरे और सूबे के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के बीच तनातनी जारी है। इसी बीच इस पूरे मामले में बॉलीवुड की पंगा गर्ल यानी कंगना रनौत ने एंट्री मारी है और महाराष्ट्र सरकार को जमकर लताड़ा है। कंगना ने महाराष्ट्र की उद्धव सरकार को निशाने में लेते हुए कहा कि गुंडों ने शराब की दुकानें, बार, रेस्टोरेंट सब खोल दिए, मगर जानबूझकर रणनीतिक रूप से मंदिरों को अभी तक बंद रखा है।

कंगना ने ट्वीट कर कहा कि ये जानकर बेहद खुशी हुई कि माननीय राज्यपाल महोदय ने राज्य की गुंडा सरकार को मंदिरों को ना खोले जाने के संबंध में प्रश्न पूछा है। कंगना यहीं नहीं रूकीं बल्कि उन्होंने आगे कहा कि सोनिया सेना तो बाबर सेना से भी बदतर व्यवहार कर रही है।


मालूम हो कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने नोटिस भेजकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से ये सवाल किया था कि राज्य में मंदिरों को आखिर क्यों बंद रखा गया है। इस नोटिस पर सीएम उद्धव ने जवाब देते हुए कहा है कि राज्य में धार्मिक स्थलों को खोलने को लेकर सरकार लगातार विचार विमर्श कर योजना बना रही है मगर जैसे एकदम से लॉकडाउन लगाना गलत था, वैसे ही सबकुछ अचानक अनलॉक करना भी गलत होगा।

सीएम ने कहा ‘हिंदुत्व सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं

उद्धव ठाकरे ने कहा कि राज्यपाल महोदय आपने मुझे हिंदुत्ववादी कहा ये सही है, मगर मुझे आपके हिंदुत्व के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। धार्मिक स्थलों को नहीं खोला तो सेक्युलर हो गया और खोल दिया तो हिंदुत्ववादी हो गया, आपकी सोच यही है क्या?

संजय राउत ने कहा ‘हिंदुत्व शिवसेना का प्राण है’

हिंदुत्व के मुद्दे पर सत्तारूढ़ पार्टी के प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि शिवसेना हिंदुत्व न कभी भूली है और ना ही कभी भूलेगी। हिंदुत्व शिवसेना का प्राण है, आत्मा है। जो भी शिवसेना के हिंदुत्व पर सवाल खड़ा कर रहे हैं, उन्हें आत्मचिंतन की जरूरत है। संजय राउत ने कहा, मंदिर और बार की तुलना करना गलत है। पीएम ने भी कहा है कि महाराष्ट्र में कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है, जब पीएम को यहां कोरोना का खतरा नजर आ रहा है तो राज्यपाल को भी पुनर्विचार करना चाहिए।