इतिहास रचने की कगार पर बाइडन और हैरिस

0
3

अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव बेहद दिलचस्प मोड़ पर है और डेमोक्रेटिक पार्टी की ओर से राष्ट्रपति उम्मीदवार जो बाइडन और उपराष्ट्रपति उम्मीदवार भारतीय मूल की कमला हैरिस इतिहास रचने के बेहद करीब हैं। व्हाइट हाउस और उनके बीच महज 17 इलेक्टोरल वोट ही हैं।

आसान शब्दों में कहें तो उनके खाते में 264 इलेक्टोरल वोट आ चुके हैं और उन्हें सिर्फ छह वोटों की दरकार है, क्योंकि व्हाइट हाउस तक पहुंचने के लिए 270 का जादुई आंकड़ा छूना है। इस तरह से जो बाइडन को अब व्हाइट हाउस पहुंचने के लिए महज एक राज्य जीतने की जरूरत है।

द न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्रंप के दामाद जेरेड कुशनर ने बुधवार का दिन विशेष रणनीति बनाने में ही गुजारा। उन्होंने ट्रंप की ‘वोटिंग रोकने’ वाली रणनीति पर और आगे काम करना शुरू कर दिया है। वह वर्ष 2000 में राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश के फ्लोरिडा में रिकाउंटिंग वाले मामले की तरह ही ट्रंप को वकीलों की ओर से सहारा देने की जुगत में लगे हैं।

गुरुवार सुबह 10 बजे (ईएसटी) ट्रंप के पसंदीदा नेटवर्क फॉक्स न्यूज और द एसोसिएटेड प्रेस में बाइडन 264 और ट्रंप के 214 वोट दिखाए गए। यह ट्रंप खेमे के लिए एक झटका है, क्योंकि वह व्हाइट हाउस की दौड़ में पिछड़ गए हैं।

एपी ने रात 2.50 बजे (ईएसटी) अपने निष्कर्ष में ट्रंप को दौड़ से बाहर दिखाया। रिपोर्ट में कहा गया कि अगर एरिजोना को भी काफी करीब मान लिया जाए, तब भी बाइडन और ट्रंप के बीच क्रमश 253-214 का फासला रहेगा।

गुरुवार को पूरे दिन सभी की जॉर्जिया, नेवादा, एरिजोना और पेन्सिलवेनिया के नतीजों पर नजर बनी रही।

राज्यवार पेंसिल्वेनिया में 89 प्रतिशत वोटों की गिनती की गई है। एरिजोना में 86 प्रतिशत वोटों की गिनती हुई है, जिनमें बाइडन 68,000 से अधिक मतों से आगे हैं। नए गिने जा रहे वोटों की गिनती में ट्रंप काफी पीछे रह गए हैं।

पॉपुलर वोट के मामले में भी बाइडन बेहतर स्थिति में हैं। मिशिगन और विस्कॉन्सिन की नीली दीवार (बाइडन के वोटों के लिए निर्धारित नीला रंग) जो चार साल पहले गिर गई थी, वह अब बाइडन के समर्थन में फिर से खड़ी दिखाई दे रही है।

वहीं दूसरी ओर डोनाल्ड ट्रंप अब भी वोटों की गिनती रोकने की मांग पर अड़े हुए हैं। उन्होंने ट्वीट किया करते हुए कहा है कि गिनती को रोका जाए। ट्रंप खेमे की ओर से आरोप लगाया जा रहा है कि डेमोक्रेटिक खेमे ने चुनाव में धांधली की है।