हुआ बड़ा धमाका , लग गए लाशों के ढेर, पीएम व्यक्त किये शोक

0
14

अहमदाबाद स्थित एक रसायन केमिकल गोदाम में बुधवार सुबह बड़ा विस्पोट हो गया। जिसके कारण उसका एक हिस्सा ढह गया।  आपको बता दें कि इस हादसे में पांच महिलाओं समेत 12 मजदूरों की मौत हो गई। 9 अन्य भी घायल हुए। वहां के अधिकारीयों का के अनुसार अहमदाबाद शहर के बाहरी इलाके में स्थित एक औद्योगिक क्षेत्र, पिराना-पिपलाज रोड पर स्थित इमारत में विस्फोट हुआ। इस गोदाम में रसायन के ड्रम रखे हुए थे।

बड़ा धमाका

सुबह 11 बजे यहा बड़ा विस्फोट हुआ जिस कारण ढांचे को बहुत नुक्सान पहुंचा साथ ही पड़ोसी गोदामों में भी आग लग गई। सुबह का समय था इस लिए कई मजदूर उस वक़्त गोदामों में काम कर रहे थे। दमकल विभाग के प्रमुख अधिकारी एम. एफ. दस्तूर ने कहा कि उनका ये अभियान खत्म हुआ। मलबे से उन्होंने 12 शव निकाले। 9 लोगों जिंदा बचाया गया। वही आग पर 30 मिनट के अनादर अंदर काबू पा लिया गया था। उन्होंने आगे कहां कि उनका अभियान मलबे में फंसे लोगों को बाहर निकालना था। शाम में एनडीआरएफ की टीम ने भी काम शुरू किया था। अधिकारी ने बताया कि लोगों की मौत विस्फोट की वजह से हुई है और बाकी क्षति भी इसकी वजह से हुई। आग मामूली रूप से ही लगी थी। इमारत विस्फोट की वजह से गिरी थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी घटना पर जताये शोक

इस घटना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी शोक व्यक्त किया। नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर लिखा- ‘अहमदाबाद के गोदाम में आग लगने से जानमाल के नुकसान की खबर से मैं व्यथित हूं। मृतकों को श्रद्धांजलि और घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना करता हूं। अधिकारी प्रभावित लोगों को हरसंभव मदद पहुंचा रहे हैं।’

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी प्रकट किये शोक

साथ ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी अहमदाबाद में हुए हादसे पर शोक जताया उन्होंने ट्वीट कर लिखा- ‘गुजरात के अहमदाबाद में एक गोदाम में आग लगने से हुई मौतों की खबर सुनकर दुख हुआ। शोकाकुल परिवार के साथ मेरी संवेदनाएं। घायलों के जल्द ठीक होने की कामना करता हूं।’

वही गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने मृतक के परिवारों को चार-चार लाख रुपये की राशि मुआवजे के रूप में देने की घोषणा की है। एक सरकारी विज्ञप्ति में बताया गया कि मुख्यमंत्री ने वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों विपुल मित्रा और संजीव कुमार को घटना की जांच के लिए नियुक्त किया है।