गुरुद्वारे के कुएं में मिले 282 कंकालों पर क्या हुआ बड़ा खुलासा , कैसे मारे गए थे सैनिक, जानिए

0
2

अजनाला (पंजाब) में गुरुद्वारा स्थित कुएं से बरामद 282 सैनिकों के कंकाल के मामले में एक बड़ा खुलासा हुआ है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शोध में यह बात सामने आई है कि यह सभी सैनिक 1947 के दंगों में नहीं बल्कि 1857 की क्रांति में ही शहीद हुए थे। साथ ही यह भी पता चला है कि यह सभी सैनिक पश्चिमी उत्तर प्रदेश, बिहार, दिल्ली, बंगाल, उड़ीसा, मेघालय, मणिपुर, त्रिपुरा आदि राज्यों रहने वाले थे। यह खुलासा पंजाब यूनिवर्सिटी के एंथ्रोपोलॉजी विभाग के शोध में हुआ है। मारे गए सैनिक किस राज्य के थे, इसका पता स्टेबल आइसोटोप तकनीक के जरिए लगाया गया है।
सैनिकों की खोपड़ी से मिले दांतों के जरिए यह जांच यूएसए की कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में करवाई गई है। इसके अलावा माइट्रोकोंड्रियल डीएनएन की जांच बीरबल साहनी इंस्टीट्यूट ऑफ फेलियो साइंसेज लखनऊ से करवाई गई है।
जांचके मुताबिक 1857 की क्रांति में मारे गए अधिकांश सैनिक शाकाहारी थे। सैनिकों के दांत काफी मजबूत स्थिति में मिले हैं। साथ ही यह पता चला है कि यह सभी निरोगी थे और इनकी आयु 20 साल से 50 साल के मध्य रही है। जांच में यह भी पता चला है कि सैनिक मृत्यु से दस साल पहले कई इलाकों में तैनात रहे हैं।  पंजाब विश्वविद्यालय के एंथ्रोपोलॉजी विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. जेएस सहरावत इस महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं। यह शोध एक प्रसिद्ध जर्नल में भी प्रकाशित हो चुका है।