औरत के बारे में चाणक्य की कही ये 5 बाते जरुर जान ले, तभी मिलेगी गुणवान पत्नी

0
11

हर व्यक्ति अपने जीवन में चाहता है कि उसकी शादी जिस किसी से भी हो वो बड़ी ही गुण इ भरी हुई हो और उसके आने से घर में हंसी बढे ख़ुशी बढे और कोई भी दिक्कत खड़ी न हो. व्यक्ति चाहता तो ऐसी चीजे खूब है लेकिन अक्सर ऐसा हो नही पाता है क्योंकि जब शादी होती है तो फिर लोग अपने सच को छुपाने की कोशिश करते है और इसमें कामयाब भी हो जाते है लेकिन कुछ एक गुण है जो आप एक स्त्री में जरूर परख सकते है और उसके बाद में ही शादी की जानी चाहिए.

चलिए फिर जानते है चाणक्य नीति में बताई गयी एक स्त्री को परखने से जुडी हुई कुछ एक बाते जो अपने आप में काफी अधिक महत्त्वपूर्ण भी है और साथ ही साथ में इनके कारण से ही हमें इस बारे में पता लग सकता है कि क्या ये लडकी हमारे लिए और हमारे परिवार के लिए सही है भी या फिर नही है.

  1. स्त्री की ईश्वर में आस्था जरुर होनी चाहिए, वो धार्मिक हो और व्रत उपवास आदि रखती हो तो वो स्त्री किसी देवी से कम नही होती है.
  2. वो स्त्री जो कभी भी आलस नही करती है और सूर्योदय से पहले ही उठकर के अपने काम पर लग जाती है और उसे जल्दी समाप्त कर लेती है.
  3. जो अपने में ही संतुष्ट रहती है, जिसे बहुत ही अधिक प्राप्त करने की लालसा नही होती है और न ही जिसके पास में अधिक धन होने की इच्छा होती है.
  4. वो स्त्री जो निर्धारित रिश्ते जिन्हें उनसे बड़े की संज्ञा दी गयी है यानी पति पिता आदि उनका ह्रदय के साथ में सम्मान करती है और उनके खिलाफ कभी ऊँची आवाज में बात नही करती है.
  5. अंत में आता है वाणी और संयम. .जिस स्त्री की वाणी मीठी और ह्रदय सयंमित होता है वो अति गुनी मानी जाती है और विवाह के योग्य भी होती है.