विदेश में दो भारतीय युवतियों की मुकेश अंबानी से मुलाकात कैसे बनी यादगार, शिष्टता की हुईं कायल

0
15




ज्यूरिख से लीचेस्टीन घूमने आई दो भारतीय लड़कियों के साथ एक असाधारण वाकई हुआ है जब दोनों की एक कैफे हाउस में अचानक मुकेश अंबानी से मुलाकात हो गई।जहा पर मुकेश एक आम इंसान की तरह अपनी बेटी ईशा के साथ कॉफी पीने आई थे बता दे की पेश है ये संस्मरण जो मीडियम डॉट कॉम से साभार है इनमे से एक लड़की ने इस बारे में बात करते हुए मुकेश अंबानी से मुलाकात के बारे में बताया।

“सुंदर पिचाई ने बेहद व्यस्त दिनों के बीच हमें उस शुक्रवार की एक अतिरिक्त छुट्टी दे दी. इससे हमें सप्ताहांत के दो दिनों को लेकर तीन ऐसे दिन मिल गए, जब हम कहीं जाकर सुखद समय गुजार सकते थे. कोई आफिस का काम नहीं. तीन दिन पूरी फुरसत. मैने बाहर घूमने जाने का तय किया. कुछ जगहें तलाशीं. इस बीच मधु का मैसेज आया, क्यों ना हम लीचेस्टीन घूमने चलें. ज्यादा दूर भी नहीं है. हम 24 घंटे में इस खूबसूरत देश को पूरा घूम सकते हैं”

“हम वहां कुछ घंटे रहे, तब तक बाहर ज्यादा ठंडा होने लगा था. कैफे में हमारे अलावा कुछ लोकल लोग ही थे. जैसे ही शाम के 04 बजने को हुए, हमने कैफे से निकलने का फैसला किया, जैसे ही बाहर जाने के लिए दरवाजा खोला, तभी अपने सामने दुनिया के छठे सबसे धनी शख्स मुकेश अंबानी को देखा. उनके साथ बेटी ईशा अंबानी भी थीं. हम तो हैरान रह गए. विश्वास ही नहीं हुआ कि हमारे सामने वाकई अंबानी हैं या कोई सपना देख रहे हैं”

उन्होंने बताया की मुकेश सूट में थे और उनकी बेटी ईशा कैजुअल ड्रैस में दोनों लडकिया इंट्रेंस डोर से सटकर खड़े हो गए उन्होंने आगे बताया “ईशा सीधे हमारी ओर आईं. मैं वाकई चकित थी. फिर मुकेश आगे बढ़े. उन्होंने हमारी ओर देखा. आपस में हैलो का आदान-प्रदान हुआ हम ये सोच ही रहे थे कि क्या करें, क्या उन्हें साथ में फोटो खिंचाने के लिए कहें. फिर लगा ये अनुरोध तो जरूर करना चाहिए. ऐसा मौका फिर जिंदगी में कहां मिलने वाला. हम उनके पास पहुंचे. एक फोटो साथ लेने के लिए रिक्वेस्ट की. मुझको मधु का तो नहीं मालूम लेकिन मैं जरूर पूरे समय कांप रही थी”

उन्होंने आगे बताया “कॉफी लेने के दौरान पिता-बेटी के बीच आपस में बातचीत चल रही थी. ये भी लगा कि उन्हें बीच में डिस्टर्ब नहीं करना चाहिए. ईशा ने दो कॉफी का पैसा देने के लिए 20 स्विस फ्रेंक का नोट निकाला. बिल कुछ कम का था. इसमें कुछ सिक्के देने थे. तब मुकेश ने बेटी से पूछा कि वो अपने कार्ड का इस्तेमाल कैसे करें. मैं गवाह हूं कि कैसे एक ताकतवर असाधारण शख्स भी एक कामन मैन की तरह कैसे ट्रांजिक्शन करता है”

“हम उन्हें पहले ही हैलो कह चुके थे, इसलिए लगा कि अब बस सीधे बोल देते हैं कि प्लीज हम आपके साथ एक फोटों खिंचाना चाहते हैं मैने कैमरा मधु को दिया ताकि हम दोनों बारी-बारी से एक दूसरे की तस्वीर ले सकें. तभी ईशा ने खुद पिक्चर खींचने की बात कहते हुए हमसे कैमरा ले लिया ताकि हम दोनों ही एक साथ मुकेश अंबानी जी के साथ फोटो खिंचा सकें केवल यही नहीं मुकेश और ईशा ने कॉफी के कप को टेबल पर रखते हुए कहा, “कॉफी को पिक्चर से दूर रखते हैं.” उन्हें अंदाज था कि पिक्चर कैसी होनी चाहिए मैने उनसे पूछा कि क्या वो बिजनेस के लिए वहां हैं. तो उन्होंने कहा कि वो अगली बड़ी डील के लिए जा रहे हैं”