B.A के छात्र ने बना डाली बैटरी वाली मोटरसाइकिल, पिता खेती के साथ टायर पंचर की दुकान चलाते हैं

0
24

टैलेंट कभी गरीबी-अमीरी, जात-पात, ऊंच-नीच, भेद-भाव नहीं देखती। आज के समय में देश दुनिया में टैलेंट की कोई कमी नहीं है, बस इसे परखने की ज़रूरत होती है। ऐसे ही अपने टैलेंट के द्वारा यूपी के नीरज ने 50 किलोमीटर तक चलने वाली एक बैटरी की मोटरसाइकिल बना डाली है।

नीरज मौर्य (Neeraj Maurya) जो कि यूपी के मिर्जापुर के रहने वाले हैं। नीरज मिर्जापुर जिले के पंचशील डिग्री कॉलेज मवईकला से ही बीएड की B.A की पढ़ाई कर रहे हैं। उनके पिता पेशे से किसान हैं और खेती करने के साथ-साथ टायर पंचर ठीक करने का काम भी करते हैं। पढ़ाई करने के साथ-साथ किसान के बेटे नीरज ने बैट्री से चलने वाली मोटरसाइकिल को काफ़ी मेहनत के बाद बनाया है। उनके द्वारा बैटरी से बनाई हुई मोटरसाइकिल 50 किलोमीटर तक चल सकती है।

Neeraj Maurya
Jagran

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के मुताबिक नीरज को बैटरी वाली ये मोटरसाइकिल बनाने में क़रीब एक महीना का समय लग गया। उन्हें मोटरसाइकिल बनाने के दौरान बहुत ज़्यादा आर्थिक समस्या भी हुई, क्योंकि नीरज के पास मोटरसाइकिल में बैटरी लगाने के लिए बिल्कुल भी पैसे नहीं थे। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और दुर्गा पूजा के समय मूर्ति बनाकर पैसे इकट्ठे किए और बैटरी खरीदी।

उनकी बनाई हुई इस मोटरसाइकिल की सबसे बड़ी खासियत है कि इसे एक बार चार्ज कर देने पर यह 50 किलोमीटर का सफ़र आसानी से तय कर सकती है। नीरज ने इस मोटरसाइकिल में बैक गियर का भी प्रयोग किया है, जिससे मोटरसाइकिल आसानी से पीछे की तरफ़ भी जा सकती है। उनकी इस उपलब्धि से खुश होकर छानबे विधायक प्रकाश कॉल उनके घर तक पहुँच गए और उन्हें शुभकामनाएँ दी।

Neeraj Maurya
Jagran

नीरज को यह बैटरी वाली मोटरसाइकिल तैयार करने में लगभग 30 हज़ार रुपए लग गए हैं। अन्य बाइक की तरह यह भी काफ़ी स्पीड में चल सकती है। दैनिक जागरण से बातचीत के दौरान नीरज ने कहा कि इस मोटरसाइकिल की दाम और भी कम हो सकती है, अगर कुछ सरकारी सब्सिडी मिल जाए तो। आपको बता दें कि नीरज ने किसी भी तरह की तकनीकी पढ़ाई नहीं की है वह नॉर्मल ग्रेजुएशन कर रहे हैं। उनके पिता भी उनके इस उपलब्धि पर बहुत खुश हैं और बहुत गर्व महसूस कर रहे हैं।

वैसे नीरज का सपना है कि लोग उनकी बनाई हुई मोटरसाइकिल का प्रयोग करें जिससे हम अपने पर्यावरण की प्रदूषण से रक्षा कर सकें, क्योंकि अन्य बाइक से निकलने वाले धुएँ से हमारा पर्यावरण बुरी तरह से प्रदूषित होता है। जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक है।