6-6 कंपनियों के हैं मालिक, पटना में लाखों का बंगला, गजब की है चिराग पासवान की लाइफस्‍टाइल

0
1

साल 2014 के लोकसभा चुनाव में चिराग पहली बार बिहार की जमुई सीट से चुनाव मैदान में उतरे और जीत भी हासिल की । 2019 के लोकसभा चुनाव में भी दोबारा यहीं से चुनाव लड़ा, विजयी रहे ।

New Delhi, Oct 13: बिहार विधानसभा चुनाव में इस बार चिराग पासवान पुरजोर मेहनत कर रहे हैं अपनी अलग पहचान कायम करने की, हालांकि सर्वे उनके पक्ष में नतीजे नहीं दिखा रहे हैं लेकिन चिराग को बिहार की जनता पर भरोसा है । आगे आपको बताते हैं दिवंगत नेता राम विलास पासवान की राजनीतिक धरोहर संभाल रहे, उनके वारिस चिराग पासवान की नेट वर्थ के बारे में । साल 2019 के चुनाव के समय चिराग पासवान ने जो शपथ पत्र सौंपा था, उसके अनुसार वो 6 कंपनियों के मालिक हैं, उनके पास 1.84 करोड रुपए की प्रॉपर्टी है।

बीटेक की पढ़ाई, बॉलीवुड था लक्ष्‍य
केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन के बाद उनके बेटे चिराग पासवान उनकी राजनीतिक विरासत को आगे बढ़ाने की पूरी जिम्‍मेदारी निभा रहे हैं । बिहार में विधानसभा चुनाव सिर पर हैं, पिता की मौत ने उनकी चुनौती को दुगना कर दिया है । चिराग पासवान की शिक्षा की बात करें तो उन्‍होंने कंप्यूटर साइंस से बीटेक किया है, लेकिन उनका लक्ष्‍य बॉलीवुड में एक्टिंग करना था । साल 2011 में फिल्म ‘मिले ना मिले हम’ से बॉलीवुड में डेब्यू भी किया। लेकिन फिल्‍म कुछ खास नहीं चली । जिसके बाद वो पिता के साथ राजनीति में आ गए ।

मजबूरी में उठाया ये कदम
चिराग ने एक इंटरव्‍यू में पूछ सवाल के जवाब में कहा था कि- ‘पिता की बीमारी के चलते वे राजनीति में आने को मजबूर हुए। उन्होंने कहा था कि बॉलीवुड के मुकाबले पॉलिटिक्स उनके लिए कंफर्ट जोन है।’ साल 2014 के लोकसभा चुनाव में चिराग पहली बार बिहार की जमुई सीट से चुनाव मैदान में उतरे और जीत भी हासिल की । 2019 के लोकसभा चुनाव में भी दोबारा यहीं से चुनाव लड़ा, विजयी रहे । चिराग, राम विलास पासवान की दूसरी पत्नी रीना के बेटे हैं।

6 कंपनियों के मालिक
साल 2019 के चुनाव के दौरान चिराग पासवान ने जो शपथ पत्र सौंपा था, उसके मुताबिक वो 6 कंपनियों के मालिक हैं। उनके पास 1.84 करोड रुपए की कुल प्रॉपर्टी है । इसके अलावा पटना में उनका करीब 90 लाख रुपए कीमत का एक बंगला भी हैं । चिराग ने चुनाव आयोग को बताया था कि उनके पास 2 गाड़ियां हैं, एक जिप्सी और एक फॉर्च्यूनर कार भी है । चिराग पासवान एक एनजीओ भी चलाते हैं। जिसका नाम ‘चिराग पासवान फाउंडेशन’ है, ये गरीब और असहाय बच्चों की पढ़ाई-लिखाई के लिए काम करता है।