सिलबट्टे बेचने वाली महिला बनी सब-इंस्पेक्टर!, IPS अधिकारी ने साझा की पूरी कहानी

0
8

सोशल मीडिया पर किसी तस्वीर का वायरल होने का यह कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी कई तस्वीरें सोशल मीडिया पर वाद-विवादों का हिस्सा रह चुकी है। दरअसल एक आईपीएस अधिकारी दीपांशु काबरा ने एक तस्वीर शेयर की है। जिसके बाद यह तस्वीर सोशल मीडिया पर लगातार वायरल हो रही है। उन्होंने एक पुलिस सब इंस्पेक्टर पद्मशीला तिरपुड़े की तस्वीर को सोशल मीडिया पर शेयर की है। इसके साथ उन्होंने उनके संघर्ष की कहानी भी बयां की है, जिस पर खुद पद्मशीला तिरपुड़े ने बड़ा अजीबोगरीब रिएक्शन दिया है।

Social Media

मामला महाराष्ट्र का है जहां एक आईपीएस अधिकारी दीपांशु काबरा ने पुलिस सब इंस्पेक्टर पद्मशीला तिरपुड़े की एक तस्वीर ट्विटर पर शेयर की थी। इसके साथ उन्होंने उनके संघर्ष की कहानी भी बयां की है। उन्होंने दावा किया है कि परिस्थितियां आपकी उड़ान नहीं रोक सकती…किस्मत भले आपका आपके माथे पर भारी पत्थर रखे, लेकिन उनसे कामयाबी का पुल कैसे बनाना है यह भंडारा, महाराष्ट्र की पद्मशीला तिरपुड़े से सीखे। पत्थर के सिलबट्टे बनाकर बेचने वाली महिला ने मेहनत की और MPAC की परीक्षा पास कर पुलिस उप निरीक्षक बनी।

Social Media

वही ऐसे में हैरान कर देने वाली बात यह है कि सब इंस्पेक्टर बनी पद्मशीला तिरपुड़े ने उस ट्वीट में लाल रंग की साड़ी पहने महिला जो कि बच्चे को गोद में उठाए हैं और उसके सिर पर पत्थर के बने सिलबट्टे हैं, उन्होंने उस तस्वीर को पहचानने से साफ इनकार कर दिया है। उन्होंने कहा है कि ना तो वो ये महिला नहीं है और ना ही कभी उन्होंने सिलबट्टे बेचे हैं। पद्मशीला तिरपुड़े ने साफ कहा है कि यह तस्वीर मेरी नहीं है और ना ही मैंने कभी अपनी जिंदगी में सिलबट्टे बेचे हैं।

Social Media

पद्मशीला तिरपुड़े ने कहा कि यह उनकी तस्वीर नहीं है। उनके अतीत और उनके संघर्षों को गलत तरीके से सोशल मीडिया पर वायरल किया गया है। उन्होंने अपनी जिंदगी में काफी संघर्ष जरूर किया है। उन्होंने काफी कम उम्र में लव मैरिज की थी। इसके बाद परिवार के हालात खराब हो गए, तो वह परिवार के साथ नासिक रहने आ गई। यहीं पर उन्होंने यशवंतराव चाणक्य मुक्त विश्वविद्यालय में ग्रेजुएशन की और इसी दौरान उन्होंने कॉन्पिटिटिव एग्जाम की तैयारी भी की। कड़ी मेहनत के बाद साल 2013 में वह सब इंस्पेक्टर पद पर तैनात हुई।

Social Media

हाल ही में एक मीडिया चैनल से बातचीत के दौरान पद्मशीला तिरपुड़े ने कहा कि परिवार के साथ साझा की गई तस्वीर मेरी है, लेकिन वह उस महिला को नहीं जानती जो सर पर सिलबट्टे रखे हैं। मेरी कहानी काफी संघर्ष भरी रही है, लेकिन उसे इस तरीके से पेश करना गलत है, यह मेरी तस्वीर नहीं हैं।