अगर पुलिस ने लिखे आपकी FIR तो तुरंत कर सकते है ये काम

0
10




हम जानते है कि भारत में नागरिको को अधिकार तो संविधान ने खूब दे दिए है और लोग उनका इस्तेमाल भी करना चाह रहे है  मगर दिक्कत यहाँ पर ये रहती है कि सिस्टम अभी उतना परिपक्व नही है कि हर किसी को एकदम बेहतरीन सर्विस दे सके और यही चीज सबसे ज्यादा दिक्कत भी देती है. कई बार लोगो के साथ में ऐसा देखा गया है कि वो अपने साथ में जो भी अपराध हुआ है उसकी ऍफ़आईआर लिखाने जाते है लेकिन उनका केस दर्ज करने में आनाकानी की जाती है.

ऐसे में ये नही है कि आप हार ही गये क्योंकि संविधान और सिस्टम में और भी तरीके है जिससे आप अपना काम कर सकते है और हम आपको वो चार तरीके बतायेंगे जो आप अपना सकते है अगर आपका  केस दर्ज होने से किसी भी तरह से रोका जा रहा है.

  1. अगर आपकी एफआईआर दर्ज नही की जा रही है तो आप वहां के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी जैसे एसपी के पास में अपनी लिखित में शिकायत दर्ज करवा सकते है, वो इस पर संज्ञान लेकर के कार्यवाही करवा सकते है.
  2. आप चाहे तो मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के पास में एक एप्लीकेशन दे सकते है क्योंकि जज के पास में ये पॉवर दी गयी है कि वो पुलिस को एफआईआर दर्ज करने का आदेश दे सकता है.
  3. आपको एक बात का ध्यान रखना है कि सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन ये कहती है कि अगर आपकी ऍफ़आईआर दर्ज नही हो रही है तो आपको हाई कोर्ट में नही जाना है, निचली अदालत में ही जाना है. अगर आप हाई कोर्ट में जायेंगे तो संभव है वो आपको निचली अदालत में ही भेज दे और फिर बेकार का चक्कर लग जाएगा.
  4. इन सबके अलावा आपके पास में सबसे अच्छी चीज ये रहती है कि आप शहर के किसी सम्मानित वकील को लेकर के पुलिस स्टेशन में जाए और केस दर्ज करने के लिए कहे, वकील इन चीजो को हल करना अच्छे से जानते है.