नीतीश के मंच से मोदी के ‘स्नेह’ से भावुक हुए चिराग पासवान, आखिर क्या है ये संकेत?

0
7

चिराग पासवान के इस ट्वीट के बाद सवाल ये उठ रहे हैं कि आखिर बीजेपी और लोजपा में ये क्या चल रहा है, क्योंकि चिराग लगातार नीतीश कुमार और जदयू पर हमलावर हैं।

New Delhi, Oct 24 : बिहार विधानसभा चुनाव में पीएम मोदी ने मोर्चा संभाल लिया है, शुक्रवार को बैक टू बैक उन्होने तीन रैलियों को संबोधित किया, इस दौरान विपक्षी पार्टी राजद और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा, साथ ही बिहार को विकास के पथ पर आगे ले जाने के लिये जनता से एनडीए सरकार बनाने की अपील की, सासाराम में पहली चुनावी रैली के दौरान पीएम मोदी ने रामविलास पासवान को श्रद्धांजलि दी, हालांकि उन्होने चिराग पासवान के एनडीए से अलग होकर चुनावी ताल ठोकने पर कुछ नहीं कहा, पीएम मोदी द्वारा पिता पासवान को लेकर जताये गये स्नेह पर चिराग ने ट्वीट कर उन्हें धन्यवाद कहा है, इस पूरे घटनाक्रम के बाद सियासी हलकों में चर्चा शुरु हो गई है, चिराग पासवान को लेकर पीएण मोदी की चुप्पी के आखिर क्या संकेत है।

मोदी ने दी श्रद्धांजलि
बिहार की पहली रैली को संबोधित करते हुए सासाराम में पीएम मोदी ने कहा कि साथियों हाल ही में बिहार ने अपने दो सपूतों को खोया है, जिन्होने यहां के लोगों की दशकों तक सेवा की है, मेरी करीबी मित्र और गरीबों, दलितों के लिये अपना जीवन समर्पित करने वाले तथा आखिरी समय तक मेरे साथ रहने वाले राम विलास पासवान जी को मैं श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं, बाबू रघुवंश प्रसाद सिंह ने भी गरीबों के उत्थान के लिये निरंतर काम किया, वो भी अब हमारे बीच नहीं हैं, मैं उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

चिराग ने लिखा अच्छा लगा
सासाराम रैली में रामविलास पासवान को पीएम मोदी ने जिस तरह से श्रद्धांजलि दी, उसे लेकर चिराग पासवान ने ट्वीट किया, उन्होने लिखा, आदरणीय नरेन्द्र मोदी जी बिहार आते हैं, Chirag Paswan 3 और पापा को एक सच्चे साथी के जैसे श्रद्धांजलि देते हैं ये कहना कि पापा आखिरी सांस तक मेरे साथ थे, मुझे भावुक कर गया, एक बेटे के तौर पर स्वाभाविक है, पापा के प्रति प्रधानमंत्री जी का ये स्नेह और सम्मान देखकर अच्छा लगा, प्रधानमंत्री जी का धन्यवाद।

चिराग और मोदी में ये क्या चल रहा है
चिराग पासवान के इस ट्वीट के बाद सवाल ये उठ रहे हैं कि आखिर बीजेपी और लोजपा में ये क्या चल रहा है, क्योंकि चिराग लगातार नीतीश कुमार और जदयू पर हमलावर हैं, चुनावी मैदान में उन्होने जदयू के खिलाफ प्रत्याशी भी उतारे हैं, हालांकि इस पूरे सियासी हालात को लेकर पीएम ने कुछ भी नहीं कहा, मोदी की चिराग पासवान को लेकर चुप्पी कई नई अटकलों को जन्म दे रहा है।

दो घोड़े की सवारी
इस पूरे मामले पर एआईएएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि मोदी ने लोजपा का उल्लेख अपने चुनावी भाषण में नहीं किया, वो एक बार में दो घोड़ों की सवारी करने की कोशिश कर रहे हैं, उनमें से एक पर बिहार में सरकार बनाना चाहते हैं, उन्होने 19 लाख नौकरियों का वादा करते हुए चुनावी घोषणा पत्र जारी किया है, जिससे स्पष्ट संकेत है कि बीजेपी बिहार में अपनी मुख्यमंत्री चाहती है, और नीतीश को रिटायर करना चाहती है, ये बीजेपी और आरएसएस की रणनीति है।