लंबी दाढ़ी रखने पर निलंबित हुए दरोगा साहब, SP ने तीन बार दी थी हिदायत, पढ़े पूरा मामला

0
6

उत्तर प्रदेश के बागपत जिले का एक मामला एन दिनों सुर्खियों में छाया हुआ है। दरअसल बागपत जिले में पुलिस का यूनिफार्म कोड को लेकर कड़ा रवैया सामने आया है, जहां पर एक दरोगा को सिर्फ इसलिए निलंबित कर दिया गया क्योंकि वह अपनी दाढ़ी नहीं कटवा रहा था। खबरों की माने तो दरोगा को इसके लिए पहले ही नोटिस भी दिया जा चुका था, लेकिन नोटिस पर ध्यान ना देने और एसपी की बात को नजरअंदाज करने के मामले को तूल देते हुए दरोगा को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया।

uttar-pradesh-baghpat-news-inspector-suspended-for-not-shaving-his-beard
Social Media

यह मामला यूपी के बागपत का है जहां के पुलिस सुपरिटेंडेंट अभिषेक सिंह ने दरोगा इंतिशार अली को इसलिए निलंबित कर दिया क्योंकि उन्होंने दाढ़ी नहीं कटवाई थी। सुपरिटेंडेंट अभिषेक ने बताया कि उन्होंने दाढ़ी रखने पर एक दरोगा को निलंबित कर दिया है। उन्होंने कहा कि दरोगा को दाढ़ी रखने के मामले में पहले भी दो बार नोटिस भेजा था, लेकिन नोटिस मिलने के बावजूद भी दरोगा ने अपनी दाढ़ी नहीं कटवाई, जिसके बाद एसपी ने एक्शन लेते हुए उन्हें निलंबित कर दिया।

uttar-pradesh-baghpat-news-inspector-suspended-for-not-shaving-his-beard
Social Media

बकौल अभिषेक सिंह महकमे में मूंछ बिना अनुमति के रख सकते हैं, लेकिन दाढ़ी रखने के लिए आपको पुलिस विभाग से अनुमति लेनी होगी। विभाग द्वारा जारी आदेश के तहत सिख समुदाय के अलावा कोई भी व्यक्ति दाढ़ी रखने से पहले विभागीय स्तर पर इसके लिए अनुमति लेगा। ऐसे में दरोगा इंतिशार अली ने बिना अनुमति के दाढ़ी रखी थी, जिसके लिए उन्हें पहले दो बार नोटिस भी जारी किया जा चुका था, लेकिन उन्होंने दोनों नोटिस को नजरअंदाज किया था।

uttar-pradesh-baghpat-news-inspector-suspended-for-not-shaving-his-beard
Social Media

एसपी अभिषेक सिंह ने बताया कि लगातार उन्हें उनकी दाढ़ी के मामले में नोटिस जारी किया जा रहा था, लेकिन इंतिशार अली सभी को नजरअंदाज करते हुए दाढ़ी ना कटवा कर अनुशासनहीनता दिखा रहे थे। ऐसे में उन्होंने लंबे विचार के बाद कार्रवाई करते हुए अनुशासनहीनता मामले में उन्हें निलंबित किया है। फिलहाल यह मामला लगातार तूल पकड़ रहा है।

Social Media

सोशल मीडिया पर इस मुद्दे को लेकर धार्मिक वाद-विवाद भी शुरू हो गया है। वह इस मामले पर एसआई इंतिशार अली का कहना है कि वह नवंबर 2019 से ही अनुमति के प्रयास कर रहे हैं, लेकिन अभी तक विभाग की तरफ से उन्हें अनुमति नहीं दी गई है।