इंसानियत की मिसाल: सैंकड़ों कोरोना लाशों को इज्ज़त से विदा करने वाले आरिफ खान खुद हारे वायरस से जंग

0
1

दुनिया भर के ज्यादातर देश इस समय कोरोना महामारी की चपेट में है। ऐसे में कोरोना के कहर से मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। तो वहीं इस कड़ी में अब कोरोना वॉरियर्स की मौत के मामले भी तेजी से सामने आने लगे है। दरअसल कोरोनावायरस महामारी के दौर में बतौर कोरियर पिछले 7 महीने से अपनी जान को जोखिम में डालकर लोगों की देखभाल कर रहे आरिफ खान की शनिवार को मौत हो गई। आरिफ खान दिल्ली के सीलमपुर इलाके में रहने वाले थे।

coronavirus-live-update-covid-warrior-ambulance-driver-aarif-khan-passes-away
Social Media

करोना काल के दौरान आरिफ खान बतौर कोरोनावरियर्स एंबुलेंस चलाते थे ।वह अपनी जान जोखिम में डालकर 200 से ज्यादा मरीजों को समय पर अस्पताल पहुंचाया करते थे और 100 से ज्यादा अधिक शवों की अंत्येष्टि के लिए वह उन्हें शमशान तक ले गए थे। आरिफ की मौत से परिवार में मातम का माहौल है।

coronavirus-live-update-covid-warrior-ambulance-driver-aarif-khan-passes-away
Social Media

कोरोना महामारी की चपेट में आने से अब तक देश में कई लाख लोगों की मौत हो चुकी है। वही कोरोना महामारी की चपेट में आने से एक जिंदादिल कोरोना वॉरियर्स आसिफ खान ने दुनिया को अलविदा कह दिया। कोरोना वायरस से संक्रमित आरिफ खान का शनिवार की सुबह निधन हो गया। बता दे संक्रमण के बाद उनका हिंदूराव अस्पताल में इलाज चल रहा था। ऐसे में शनिवार सुबह उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया।

आरिफ खान के निधन पर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भी शोक व्यक्त किया है। वेंकैया नायडू ने कहा आरिफ खान पिछले 25 सालों से शहीद भगत सिंह सेवा दल के साथ काम कर रहे थे। वह फ्री में एंबुलेंस की सेवा मुहैया कराने का काम करते थे। आरिफ खान कोरोना के मरीजों को उनके घर से अस्पताल और आइसोलेशन सेंटर ले जाने का काम करते थे।

coronavirus-live-update-covid-warrior-ambulance-driver-aarif-khan-passes-away
Social Media

वहीं शहीद भगत सिंह सेवा दल के संस्थापक जितेंद्र सिंह शंटी ने भी आरिफ को एक जिंदादिल और खुश दिल शख्स बताया है। उन्होंने कहा कि मुस्लिम होकर भी आरिफ ने अपने हाथों से 100 से ज्यादा हिंदुओं के शवों का अंतिम संस्कार किया है। आरिफ खान को हमेशा याद रखा जाएगा। वह हजारों लाखों लोगों के दिलों में हमेशा जिंदा रहेंगे…उनका काम बेहद सराहनीय है।

coronavirus-live-update-covid-warrior-ambulance-driver-aarif-khan-passes-away
Social Media

बता दे आरिफ के अंतिम संस्कार में उनके परिवार का कोई भी सदस्य शामिल नहीं हुआ था। उनके परिवार ने आरिफ का शव काफी दूर से कुछ मिनटों के लिए देखा था। उनका अंतिम संस्कार खुद शहीद भगत सिंह सेवा दल के अध्यक्ष जितेंद्र सिंह ने किया था।