चिराग पासवान ने की सौतली मां राजकुमारी से मुलाकात, गले लगाकार कहीं ये भावुक बात

0
14

बिहार चुनाव सर पर है वहीं चुनाव से पहले चिराग पासवान को पिता के निधन से काफी गहरा झटका लगा है। वही पार्टी ने अकेले चुनाव लड़ने का फैसला भी कर लिया है। चिराग ने हाल ही में एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया था, जिसके चलते इस बार कि बिहार चुनाव की रणनीति काफी अलग नजर आ रही है। जहां एक ओर चिराग पासवान इस बार चुनावी मैदान में बिना पिता के साये के खड़े हैं तो वही चिराग पासवान बुधवार को अपनी सौतेली मां राजकुमारी को लेकर काफी चर्चा में रहे।

ram-vilas-paswan-son-chirag-paswan-met-step-mother-rajkumari-devi
Social Media

दरअसल रामविलास पासवान की दो शादियां हुई थी। उनकी पहली शादी 14 साल की उम्र में राजकुमारी देवी से हुई थी। चिराग पासवान अपनी सौतेली मां से मिलने कभी पातृक गांव नहीं गए। खुद इस बात का जिक्र राजकुमारी देवी ने एक बार किया था। उन्होंने कहा था कि वह आखरी बार अपने पैतृक गांव तब आए थे जब उनके दादा का निधन हुआ था।

ram-vilas-paswan-son-chirag-paswan-met-step-mother-rajkumari-devi
Social Media

रामविलास पासवान के निधन के बाद उनकी पहली पत्नी राजकुमारी देवी उनके अंतिम दर्शन करने पटना गई थी। इसी कड़ी में सोमवार को लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान अपने पिता के अस्थि विसर्जन के लिए अपने पैतृक गांव शहरबन्नी पहुंचे। इस दौरान चिराग ने अपनी सौतेली मां राजकुमारी देवी से भी मुलाकात की।

ram-vilas-paswan-son-chirag-paswan-met-step-mother-rajkumari-devi
Social Media

इस बात का जिक्र राजकुमारी देवी ने हाल ही में एक मीडिया चैनल से बातचीत के दौरान किया। उन्होंने बताया कि पिता के अस्थि विसर्जन के समय चिराग पासवान उनसे मिलने आए थे और उनसे पैर छूकर उनका आशीर्वाद भी लिया। इसके बाद उन्होंने मुझे गले लगाया। राजकुमारी देवी ने आगे कहा कि जब तक रामविलास जी जिंदा थे चिराग उनसे ज्यादा बात नहीं करते थे, लेकिन अब तो चिराग को ही मेरा ख्याल रखना होगा। इसके अलावा राजकुमारी देवी ने अपने बेटे चिराग पासवान को ही अपना सहारा भी बताया।

ram-vilas-paswan-son-chirag-paswan-met-step-mother-rajkumari-devi
Social Media

इतना ही नहीं राजकुमारी देवी ने आगे यह भी कहा कि मैं चाहती हूं कि चिराग पासवान इस बार चुनाव में जीते और मैं इसके लिए उन्हें आशीर्वाद भी देती हूं। राजकुमारी देवी ने आगे कहा कि चिराग को उनकी बात माननी चाहिए और वह भी उनकी हर बात मानेंगी। उन्होंने बताया कि रामविलास जी की दूसरी शादी करने के बाद मेरा उनसे संपर्क बेहद कम हो गया था, लेकिन मेरी दोनों बेटियां मुझसे मिलने अक्सर गांव आती रहती हैं।