नवरात्रि के छठे दिन बरसती है माँ कात्यायनी की कृपा, एक उपाय करेगा विवाह और संतान की बाधा खत्म

0
6




काफी पावन दिन अभी के समय में चल रहे है और आज तो नवरात्रि का छठा दिन है जो अपने आप में काफी अधिक पावन, पवित्र और महत्त्वपूर्ण है.इस दिन माँ कात्यायनी की पूजा होती है और अगर किसी पर उनकी कृपा हो जाए तो यकीन मानिए जो भी जीवन या फिर समाज में आपको दिक्कते या फिर समस्याएँ आती है वो देखते ही देखते समाप्त होने लग जायेगी और आपको फायदा होगा. चलिए फिर आपको हम आज के दिन के लिए कुछ एक उपाय बताते है जो आपको ध्यान में रखने की जरूरत है.

माँ कात्यायनी की चार भुजा है. उन्होंने एक हाथ में कमल तो दुसरे में खडग पकड़ रखी है. दो हाथो से वो आशीर्वाद देती है. ह्रदय से अति कोमल माँ कात्यायनी अपने भक्तो पर जल्दी प्रसन्न हो जाती है और पुत्र समान उन्हें स्नेह देती है. माँ कात्यायनी को प्रसन्न करने वाला मन्त्र ‘कंचनाभा वराभयं पद्मधरां मुकटोज्जवलां है.

आप सुबह सुबह नहा धोकर के माँ की मूर्ती के सामने बैठे और इसी मन्त्र के साथ में पूजन की शुरुआत करे. इसके बाद में उनको गंगाजल, नारियल और चुनरी अर्पित करे. बात करे भोग की तो आप उन्हें शहद जरुर अर्पित करे. माँ कात्यायनी को शहद अतिप्रिय होता है और अगर कोई ऐसा करता है तो उनके संतान में या फिर शादी में जो कोई भी दिक्कते आ रही होती है वो धीरे धीरे देखते ही देखते कटने लगती है और इंसान एक सफल जीवन की तरफ आगे बढ़ जाता है.

जरूरी है कि माँ  कात्यायनी की कृपा व्यक्ति पर बनी रहे और नवरात्रि का छठे दिन का अगर आप व्रत रखते है तो फिर तो ये और भी अच्छी बात है क्योंकि व्रत आपके मन को और अधिक पावन और आस्तिक बना देता है जिससे कि आपको इस मामले में अधिक लाभ की प्राप्ति होते हुए नजर आती है.