पान की दुकान चलाकर पढ़ाया बेटे को और बेटा बना IAS, किया अपने पिता का सपना पूरा

0
0




लखनऊ के गणेशगंज इलाके के रहने शिव कुमार गुप्ता के बेटे ईश्वर कुमार ने IAS बनकर अपने परिवार वालो का नाम ऊचा किया है बता दे की ईश्वर लखनऊ के गणेशगंज के एक छोटे से घर से है उनके पिता एक छोटी सी पान की दूकान चलाते थे जो की अतिक्रमण की जद में आकर टूट चुकी है परिवार में दो बेटे हैं, बड़ा बेटा ईश्वर कुमार अब आईएएस अधिकारी बन गया है। सिविल सेवा में उसने 187वीं रैंक हासिल की है।

शिवकुमार के अनुसार उनका बेटा शुरू से पढ़ाई आजमगढ़ में नानी के गांव में रहकर की थी ईश्वर ने जब हाईस्कूल के इम्तिहान में सूबे में 18वीं रैंक हासिल की तो उसके माता-पिता उसे लखनऊ पढ़ाई के लिए ले आये। उनके पिता ने पान की एक छोटी सी दूकान लगाई और अपने परिवार का पेट पालने के साथ साथ अपने बच्चो की पढ़ाई में कोई कमी नहीं आने दी अपने बच्चो को पढ़ाने के लिए उन्होंने एजुकेशान लोन तक लिया।

उनकी मां कुसुम देवी का कहना है की बेटे का फोन आया की वो अधिकारी बन गया तो वह खाना बनाना छोड़कर मंदिर पहुंच गयीं। उनकी माँ ने ये भी बताया की उनका बेटा लखनऊ से पढ़ाई के बाद गाज़ियाबाद में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने चला गया और बाद में उसे सेल में नौकरी मिल गयी। बहन अनुराधा का कहना है कि वो शुरू से शर्मीले स्वभाव के हैं उनका भाई पढ़ाई के साथ साथ खेलना भी पसंद करता था पर पढ़ाई को बहुत संजीदगी से लेते रहे हैं।

उन्होंने हमेशा कहा करते कि उनका तो बस एक ही सपना है आईएएस अधिकारी बनना और आखिरकार वो चौथे प्रयास में वो आईएएस अधिकारी बन ही गएा आईएएस बनने के बाद ईश्वर कुमार बताने है की वो नौकरी करने के साथ साथ पढ़ाई भी करते थे और अपनी पढ़ाई में उन्होंने ऑनलाइन स्रोत और डिजिटल मटेरियल का भी इस्तेमाल किया तो वही अपनी छुट्टी के दिन वो आठ से नौ घंटे पढ़ाई करते थे और इतनी मेहनत के बाद अब वो आईएएस बन गए है।