बरेली लव जिहाद मामला : हिंदूवादियों का हंगामा, पुलिस ने किया हल्का बल प्रयोग

0
30

उत्तर प्रदेश के बरेली में लव जिहाद मामले को लेकर हिंदूवादी संगठन ने मंगलवार को जमकर बवाल किया। पुलिस अधिकारियों ने मामले में कार्रवाई का आश्वासन दिया, लेकिन वह नहीं मानें। युवती की बारामदगी के लिए अड़े रहे। आरोप है कि इस दौरान नारेबाजी करते हुए लोगों ने तोड़फोड़ शुरू कर दी। पुलिस ने हालात पर काबू पाने के लिए हल्का बल का प्रयोग किया, जिससे कई लोग घायल हो गए। इसके बाद भीड़ तितर-बितर हो गई।

दरअसल, 17 अक्टूबर को आठ लाख नकदी व जेवरों के साथ संदिग्ध हालात में एक छात्रा गायब हुई थी। इस मामले में गायब छात्रा के परिजनों ने दूसरे समुदाय के युवक पर भगाने का आरोप लगया था। इसी मामले को लेकर भाजपा समर्थक आक्रोश व्यक्त करने किला थाने पहुंचे थे।

एसपी (सिटी) रवींद्र कुमार ने बताया कि 17 अक्टूबर को थाने पर तहरीर आई थी। उस दिन केस दर्ज किया गया था। पुलिस की चार टीमें सर्विलांस की मदद लेते हुए आरोपी की गिरफ्तारी व युवती की बरामदगी के लिए प्रयासरत हैं।

उन्होंने बताया, “इसी बीच युवती का वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें युवती अपने को बालिग को बताते हुए प्रमाण के तौर पर आधार कार्ड भी दिखा रही है। लेकिन हम युवती की बरामदगी के लिए प्रयास कर रहे हैं। इसके बाद उसे न्यायालय में पेश करेंगे। न्यायालय जैसा आदेश करेगा, वैसा हम कार्रवाई करेंगे।”

इससे पहले, लड़की के घर से गायब होने के बाद परिवार वालों ने मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस दोनों की तलाश में जुटी है। लेकिन कुछ हिंदूवादी संगठन के कार्यकर्ताओं ने इसे लव जिहाद का मामला बताते हुए मंगलवार को किला थाने का घेराव कर लिया। पुलिस के आलाधिकारियों ने मामले में कार्रवाई जारी होने का हवाला दिया। लोग युवती की तत्काल बरामदगी की बात पर डटे रहे। मामले को बिगड़ता देख पुलिस ने भीड़ को नियंत्रित करने के लिए लाठी चार्ज किया और प्रदर्शनकारियों को थाने से बाहर निकाला।

बरेली कॉलेज से स्नातक की पढ़ाई कर रही एक नाबालिग छात्रा कोचिंग जाने के दौरान संदिग्ध हालात में लापता हो गई थी। छात्रा अपने साथ घर में रखे लाखों रुपये जेवर भी लेकर गई है। परिजनों ने एक दूसरे समुदाय के युवक पर छात्रा को रुपयों के लिए गायब करने और उसकी हत्या करने की आशंका जाहिर की थी।

परिजनों के अनुसार, छात्रा दिमागी रूप से बीमार है और उसका इलाज चल रहा है। प्रेमनगर निवासी एक निजी कॉलेज में बड़े पद पर तैनात छात्रा के पिता ने आरोप कि उनकी बेटी 17 वर्ष की है। बेटी की इस समय मानसिक स्थिति ठीक न होने की बात कहीं थी। शनिवार को कोचिंग जाने की बात कहकर निकली थी, फिर वापस नहीं लौटी।