भाग्यश्री ने बताया बॉलीवुड का काला सच, शादीशुदा हीरोइनों को करना पड़ता था इन दिक्कतों का सामना

0
0

माँ बनने का फैसला आसान नहीं होता है। फिर चाहे कामकाजी महिला हो घरेलु। माँ बनने से पहले सभी को सोचना पड़ता है। बात जब अभिनेत्रियों की आती है उन्हें बहुत सोच-विचार करना पड़ता है क्योंकि उनके लिए यह करियर का सवाल होता है। बॉलीवुड में यह मान्यता है कि जिस अभिनेत्री की शादी हो गयी उसका स्टारडम कम हो गया। इस वजह से उसको मेन लीड मिलना बंद हो जाता है। इस तरह अभिनेत्रियों के लिए शादी करने का मतलब होता है कि करियर को दूसरा फेज प्रदान करना।

वहीं जब यहीं अभिनेत्रियाँ माँ बन जाती हैं तो उनको समझा जाता है कि वो ‘आउट ऑफ़ बिजनेस’ हो गयी। कई केसेस में ऐसा देखा भी गया है। ऐश्वर्या राय, रवीना टंडन, माधुरी दीक्षित, शिल्पा शेट्टी कई ऐसे नाम जो इस मिथक का शिकार हुए हैं। लेकिन हर किसी के लिए यह बात सच साबित नहीं होती है। इस बारें में ‘मैंने प्यार किया’ की अभिनेत्री भाग्य श्री ने अपने एक इंटरव्यू में बताया।
bhagya-shree

भाग्य श्री के मुताबिक जब उनकी शादी हुई थी तो लोगों ने भी उनके बारें में ऐसी ही बाते कहीं थी। लेकिन उनके साथ ऐसा नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि जब उनको बेटा हुआ था तब यश चोपड़ा ने उन्हें एक फिल्म ऑफर की थी। मुझे बस हाँ बोलने की जरुरत थी और वे फिल्म की शूटिंग शुरू करने के लिए तैयार थे। भाग्य श्री ने बताया यश चोपड़ा के अलावा भी कई बड़े प्रोड्यूसर और डायरेक्टर थे जो उनके माँ बनने के बाद भी उनके साथ काम करना चाहते थे।

भाग्य श्री ने बताया कि जब ‘मैंने प्यार किया’ फिल्म आ रही थी तो उनके जगह कोई और होता तो इस तरह का मौका नहीं छोड़ता। लेकिन उन्होंने इन मौकों को जाने दिया। इसका कारण वह बताती हैं कि उस समय वह बहुत भोली थी। उनका मानना था कि उस समय वह अपने परिवार के लिए बहुत प्रोटेक्टिव थी। उनका परिवार ही उनका संसार था। और वह इससे बाहर नहीं आना चाहती थी।

वह नहीं चाहती थी कि मीडिया उनके परिवार के बारे में कुछ लिखे। हालांकि उस समय प्रिंट मीडिया ही था। एंटरटेनमेंट के नाम पर न्यूज़ पेपर और कुछ मासिक मैगजीन ही हुआ करती थी। उस समय ख़बरें ज्यादा नहीं घूमती थी। यही कारण था कि वह स्टारडम के पीछे ज्यादा नहीं भागी। भाग्य श्री के लिए उनका परिवार ही पहली प्राथमिकता था। उन्होंने अपने परिवार को हर चीज़ में वरीयता दी। यहाँ तक कि अपने करियर में भी।

उन्होंने आगे बताया कि उस समय महीने में एक मैगजीन आती थी और फिर महीने भर तक उसको ही पढ़ा जाता था और उसके बारें में ही बात होती थी। वह किसी ऐसी खबर का हिस्सा नहीं बनना चाहती थी जिसे लोग चटकारे लेकर पढ़ें क्योंकि ये बेवकूफी भरा होता है। भाग्य श्री के मुताबिक जिस तरह से उन्होंने अपने करियर को लीड किया वह उनके परिवार और प्रतिष्ठा दोनों के लिए प्रोटेक्टिव रहा।

Bhagyashree

वह आगे बताती हैं कि लोग यह नहीं समझते हैं कि स्क्रीन पर दिखने वाला व्यक्ति और असल में दिखने वाला व्यक्ति अलग-अलग होता है। आजकल यह चीज़ें बहुत मुश्किल हो गयी हैं। लोग जिस तरह से पर्दे पर एक्टर को देखते हैं उसी तरह से उस व्यक्ति को असल जिंदगी में भी मानने लगते हैं। प्रेम चोपड़ा, रणजीत और प्राण जैसे अभिनेताओं के साथ यही हुआ।

बुरा किरदार निभाने के कारण लोग इन कलाकारों को ही बुरा समझने लगे थे। इसी तरह से जब आप ऑफिस जाते है तो आपका व्यक्तित्व अलग होता है लेकिन जब आप घर पर होते हैं तो आपका व्यक्तित्व अलग होता है। यही एक्टर के साथ भी होता है। भाग्यश्री इस समय 51 साल की हैं। उनके दो बच्चे-एक बेटा अभिमन्यु और एक बेटी अवंतिका है। भाग्यश्री प्रभास और पूजा हेंगडे के साथ ‘राधे श्याम’ फिल्म में नज़र आएँगी।

यह भी पढ़ें : ये हैं 3 सबसे कम उम्र में शादी करने वाली बॉलीवुड अभिनेत्रियां