Blood Clotting होने पर दिखने लगते हैं ये संकेत, नजरअंदाज करने पर जा सकती है जान

0
2

बदलते समय के साथ-साथ लोगों की लाइफस्टाइल में भी बदले आया है. आजकल व्यस्त दिनचर्या के कारण लोग अपने स्वास्थ्य पर ज्यादा ध्यान नहीं दे पाते. कई बार बदलती जीवनशैली के कारण लोगों को ब्लड क्लॉटिंग (Blood Clotting) की भी समस्या होने लगती है. ब्लड क्लॉटिंग का मतलब है ‘शरीर में खून का एक जगह इकठ्ठा हो जाना’. नसों में जब खून के थक्के बनते हैं, तो धीरे-धीरे इससे शरीर भी प्रभावित होने लगता है.

हालांकि जिन्हें शुरूआती स्तर पर ये समस्या होती है, उन्हें ज्यादा परेशानी महसूस नहीं होती, लेकिन असलियत में यह आपको कई गंभीर परिस्थितियों के करीब धकेल रहा होता है. इसलिए ब्लड क्लॉटिंग के शुरूआती लक्षणों की पहचानना बहुत जरुरी हो जाता है, ताकि आने वाले समय में इसके गंभीर परिणामों से बचा जा सके.

पेट में ब्लड क्लॉटिंग के संकेत

पेट में भी खून के थक्के बन सकते हैं. इसके लक्षणों की बात करें तो इसमें पेट में सूजन और गंभीर पेट दर्द होता है. इसके अलावा ये पेट के वायरस या फ़ूड पॉइजनिंग की ओर भी संकेत देते हैं. यदि आप भी इस तरह की समस्या का सामना कर रहे हैं तो फ़ौरन डॉक्टर से संपर्क करें.

मस्तिष्क में ब्लड क्लॉटिंग के संकेत

दिमाग में भी ब्लड क्लॉटिंग हो सकती है. यदि आपको अचानक से असहनीय सिरदर्द होने लगे तो यह ब्लड क्लॉटिंग का संकेत हो सकता है. इसके अलावा इसके शुरूआती लक्षण में बोलने व देखने की समस्या भी देखने को मिलती है.

हाथ या पैर में ब्लड क्लॉटिंग के संकेत

यदि आपको पैरों या हाथों में सूजन है, या फिर पैरों व हाथों में दर्द और ऐंठन की समस्या है तो यह ब्लड क्लॉटिंग के संकेत हो सकते हैं. इस तरह की समस्या होने पर इसे बिलकुल नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए.

दिल में ब्लड क्लॉटिंग के संकेत

यदि किसी के दिल में खून के थक्के बन जाए तो इससे गंभीर परिस्थिति पैदा हो सकती है. इससे व्यक्ति को हार्ट अटैक भी आ सकता है. दिल में ब्लड क्लॉटिंग के शुरूआती लक्षणों में आपको सांस लेने में तकलीफ, धड़कनों का तेज होना और सोने पर सांस लेने की तेज आवाज आना जैसी समस्या होती है. यदि आप भी इनमें से किसी समस्या से जूझ रहे हैं तो तुरंत डॉक्टर से मिलें.

तो ये थे वो लक्षण जो शरीर के विभिन्न अंगों में ब्लड क्लॉटिंग की समस्या को दर्शाते हैं. यदि आप इनमें से किसी भी परेशानी से जूझ रहे हैं, तो इस स्थिति में डॉक्टर से परामर्श लेना सबसे बेस्ट ऑप्शन है.

पढ़ें इन 6 लोगों के लिए किसी जड़ी-बूटी से कम नहीं है रसगुल्ले का सेवन, बीमारी दूर कर बनाता है फिट