मरी हुई बेटी को जिंदा देख फफक कर रो पड़े थे पिता, बोले- ‘मेरी है पर मेरे लिए मर चुकी है’

0
17117




साल 2011 की बात है गोरखपुर शिखा दुबे हत्याकांड ने लोगों के होश उड़ा दिए थे क्योकि जिस लड़की को लोग मरा हुआ समझ रहे थे वो अपने प्रेमी के साथ सोनभद्र में रह रही थी साथ ही गोरखपुर में किसी लड़की की लाश को अपनी बेटी समझ कर पिता ने उसका अंतिम संस्कार कर दिया था पर एक दिन जब शिखा अपने पिता के सामने आई तो पिता राम प्रकाश दुबे उसे देखकर फूट-फूटकर रोने लगे उनसे छुआ की वो सच में वो जिंदा है और जिसके बाद उन्होंने मोहमाया को त्यागकर कहा ‘ये मेरी ही बेटी है लेकिन अब मेरे लिए मर चुकी है।’

ये 11 जून 2011 की है जब गोरखपुर सिंघाड़िया में एक युवती की बॉडी मिली थी जिसकी कद काठी और उम्र बिलकुल इंजीनियरिंग कॉलेज के कमलेशपुरम कॉलोनी इलाके से गायब युवती शिखा दुबे जैसी थी जब उनसे पिता घरवाले, रिश्तेदार ने भी मन लिया था की ये बॉडी शिखा की ही है इस दौरान पिता राम प्रकाश दुबे ने पड़ोसी दीपू पर हत्या की आशंका जताई और केस दर्ज करा दिया।

जब पुलिस ने मामले की जांच की तब ये पता चला की दीपू भी घर से गायब है कुछ समय बाद लिस को खबर मिली कि आरोपी दीपू सोनभद्र में है जब पुलिस सोनभद्र पहुंची तब उनके होश उड़ा गए क्योकि वह पर आरोपी दीपू के साथ साथ शिखा भी थी पुलिस दोनों को गिरफ्तार कर गोरखपुर लेकर आई दोनों ने बताया की वो एक दूसरे से प्यार करते थे पर उनके घर वाले इस रिश्ते से राजी नहीं थी जिसके बाद उन्होंने घर से भागने और अपने घर वालो से हमेशा के लिए पीछा छुड़ाने के बारे में सोचा।

दोनों ने शिखा की कद काठी की किसी महिला की हत्या की इस सब में उनका दोस्त सुग्रीव भी शामिल था और उन्होंने पूजा नाम की एक लड़की को निशाना बनाया आपको बता दे की वो तीन साल की बच्ची की मां थी दीपू और सुग्रीव उसे गोरखपुर में तीन हजार रुपये की नौकरी दिलाने के बहाने ले आए सुग्रीव 10 जून की रात में पूजा को ट्रक से कूड़ाघाट खत्म कर दिया वही शिखा- दीपू घर से भाग गए पहचान के लिए उन्होंने पूजा एक धागा पहना दिया जो शिखा हमेशा पहनती थी।

इस सब में ट्रक का खलासी बलराम भी चंद रुपये के लालच में शामिल हो गया।पूजा की लाश का चेहरा धारदार हथियार से इस कदर बिगाड़ दिया कि चेहरे से असली लड़की की पहचान ना हो सके और बाद में सिंघड़िया के पास लाकर शव को फेंक दिया गया।शिखा और दीपू के साथ पुलिस ने केस सी जुड़े सभी आरोपियों को अरेस्ट कर लिया था।दोनों ने अपनी दुनिया बसने के लिया एक औरत और उसके बच्ची की दुनिया उजाड़ दी।